ताजमहल में सुबह 1500 और शाम को 3500 लोग कर सकते हैं एंट्री, व्यवस्था में हुआ बदल

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 12:10 AM IST
  • ताजमहल में अब सुबह जहां 1500 लोगों को ताजमहल देखने के लिए एंट्री दी जाएगी तो वहीं 3500 लोगों को शाम को ताजमहल का दीदार करने का मौका मिलेगा. ताजमहल के लिए यह व्यवस्था गुरुवार को लागू की गई और व्यवस्था में बदलाव का मुख्य कारण कोहरे और ठंड का बढ़ना है.
ताज महल की एंट्री व्यवस्था में हुआ फेर बदल

आगरा: कोरोना काल में ताजमहल देखने आने वालों की संख्या सीमित कर दी गई थी. एक दिन में केवल 5000 लोग ही ताजमहल को देखने आ सकते हैं. इसमें 2500 सुबह तो 2500 दोपहर में ताजमहल देखने के लिए एंट्री कर सकते थे. लेकिन हाल ही में ताजमहल में इस सुविधा में बदलाव किया गया है. बताया जा रहा है कि अब सुबह जहां 1500 लोगों को ताजमहल देखने के लिए एंट्री दी जाएगी तो वहीं 3500 लोगों को शाम को ताजमहल का दीदार करने का मौका मिलेगा.

ताजमहल के लिए यह व्यवस्था गुरुवार को लागू की गई और व्यवस्था में बदलाव का मुख्य कारण कोहरे और ठंड का बढ़ना है. दरअसल, कोहरे के कारण सुबह सैलानी कम संख्या में आ रहे हैं, लेकिन शाम को आने वाले सैलानियों की संख्या ज्यादा होती है. लेकिन वह 2500 तक सीमित होने के कारण ताजमहल का दीदार नहीं कर पाते हैं. ऐसे में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने टिकटों को लेकर नई व्यवस्था क दी है. शाम को टिकटों की संख्या 3500 कर देने से पर्यटकों की मुश्किलें भी कम हो गई हैं.

आगरा में मिला शराब का कुआं, ग्राहकों को बेचने का तरीका जान आप रह जाएंगे हैरान

रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार की शाम को पांज बजे कई सैलानियों ने ताजमहल पहुंचकर टिकट बुक करने का प्रयास किया. शाम को 3500 सैलानियों की संख्या करने पर केवल आठ टिकटें ही बिना बिकी बची रहीं. बाकी सारी टिकटें बिक चुकी थीं. बताया जा रहा है सिर्दी और कोहरे के कारण सुबह केवल 1500 लोग ही ताजमहल देखने आते थे, जिससे 1000 टिकटें रोजाना बेकार जाती थीं. इस बारे में बात करते हुए एएसआई अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि संस्कृति मंत्रालय स्तर से ही टिकटों का बदलाव तय किया गया है और यह टेस्टिंग फेज में है. इसके परिणाम के आंकलन के बाद अंतिम संख्या तय की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें