आगरा

करंट लगाया, मोमबत्ती से जलाया और परिवार को भी बंधक बनाया, वजह सिर्फ चोरी का शक..

Smart News Team, Last updated: 15/06/2020 09:04 AM IST
  • हैवानियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चोरी के शक में बंध बनाए उस बच्चे को करंट लगाया गया, मोमबत्ती से भी जलाया। जब बेटे की तलाश में परिजन वहां पहुंचे तो उन्हें भी बंधक बना लिया। इतना ही नहीं, प्लांट के मालिक ने परिजनों के साथ भी मारपीट की।
प्रतीकात्मक तस्वीर

आगरा के शाहजंग में चोरी के शक में एक बच्चे के साथ हैवानियत की हद पार करने का मामला सामने आया है। कमाल खां के पास सराय ख्वाजा (शाहगंज) में एक परिवार 40 घंटे से बंधक था। पानी प्लांट मालिक ने चोरी के शक में एक बच्चे को बंधक बनाया था। हैवानियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चोरी के शक में बंध बनाए उस बच्चे को करंट लगाया गया, मोमबत्ती से भी जलाया। जब बेटे की तलाश में परिजन वहां पहुंचे तो उन्हें भी बंधक बना लिया। इतना ही नहीं, प्लांट के मालिक ने परिजनों के साथ भी मारपीट की। रविवार को आठ वर्षीय समीर के साहस से पूरा परिवार मुक्त हो सका। सूचना पर आई पुलिस ने मुख्य आरोपी अबरार को हिरासत में लिया है। उसके खिलाफ मुकदमा लिखकर कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

मूलत: तेलीपाड़ा ताजगंज निवासी निजाम पिछले दस साल से अपने परिवार के साथ सराय ख्वाजा में रहता है। परिवार में पत्नी मुवीना, बेटा सोनू (20), आमिर खान (12), समीर (08) व सोनू की पत्नी रूखसाना हैं। निजाम पहले बैंड का काम करता था। बाद में अबरार के पानी प्लांट में रिक्शा चलाने लगा। उसके बेटे सोनू व आमिर खान भी उसी पानी प्लांट में काम करने लगे। सोनू ने कुछ समय पूर्व काम छोड़ दिया। आमिर और उसके पिता वहां पर ही काम करते हैं। 27 मई को अबरार के घर चोरी हो गई। उसे आमिर पर शक था। शुक्रवार की रात उसने आमिर को अपने घर बुलाया। आरोप है कि तीसरी मंजिल पर बने कमरे में बंधक बना लिया और बेरहमी से पीटा। करंट लगाया और मोमबत्ती से जलाया। 

एक और बच्चा था कैद

मोहल्ले का मोहनिस पुत्र वसीम भी वहां कैद था। आमिर घर नहीं पहुंचा तो उसकी तलाश में परिवार के सदस्य वहां आए। अबरार ने आमिर के पिता, भाइयों और मां को भी बंधक बना लिया। रविवार को अबरार की मां का इंतकाल हो गया। घर में भीड़ थी और रिश्तेदार आए थे। मौका मिलने पर समीर घर से बाहर भाग गया। बाहर आकर उसने अपने चाचा शब्बीर खान को फोन किया। चाचा ताजगंज में रहते हैं। भतीजे से मिली जानकारी ने शब्बीर के होश उड़ा दिए। चाचा ने तत्काल पुलिस से संपर्क किया। शाहगंज पुलिस और डॉयल 112 की गाड़ी अबरार के घर पहुंच गई। 

पुलिस के अनुसार, निजाम का परिवार वास्तव में कैद था। परिवार के सभी सदस्यों को वहां से मुक्त कराया गया। मौके से अबरार को हिरासत में लिया गया। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

पीट-पीटकर सोनू को कर दिया जख्मी, भर्ती कराया

परिवार के सदस्यों का आरोप है कि अबरार और उसके भाई ने सोनू को बेरहमी से पीटा था। सोनू की हालत बिगड़ गई। यह देख वे घबरा गए। उन्होंने सोनू को किसी अस्पताल में भर्ती करा दिया। परिवार के लोगों को बताया कि वह ठीक है। आरोप है कि अबरार जब भी पीटता यही पूछता कि उसके घर से चोरी गया सोना कहां बेचा है। पीड़ित परिवार के अनुसार उनका चोरी से कोई लेना-देना नहीं। पता नहीं अबरार को उनके बेटे पर क्यों शक हुआ।

अन्य खबरें