लॉकडाउन में होटल के कमरे में मिले प्रेमी-प्रेमिका, पुलिस ने किया ये काम

Shankar Pandit, Last updated: 31/05/2020 11:38 AM IST
  • लॉकडाउन अभी खत्म नहीं हुआ है। इससे पहले ही लोगों ने नियमों की धज्जियां उड़ाना शुरू कर दिया है। शास्त्रीपुरम स्थित एक होटल में पुलिस ने छापा मारा। होटल की देखरेख कर रहे गार्ड ने प्रेमी-प्रेमिका को कमरा किराए पर दे दिया था। जबकि होटल बंद चल रहे हैं।
Police Generic Photo

लॉकडाउन अभी खत्म नहीं हुआ है। इससे पहले ही लोगों ने नियमों की धज्जियां उड़ाना शुरू कर दिया है। शास्त्रीपुरम स्थित एक होटल में पुलिस ने छापा मारा। होटल की देखरेख कर रहे गार्ड ने प्रेमी-प्रेमिका को कमरा किराए पर दे दिया था। जबकि होटल बंद चल रहे हैं। उन्हें खोलने का आदेश जारी नहीं हुआ है।

इंस्पेक्टर सिकंदरा अरविंद कुमार ने बताया कि मुकदमा शास्त्रीपुरम चौकी इंचार्ज वीर सिंह यादव ने लिखाया है। दोपहर करीब दो बजे पुलिस होटल पर पहुंची थी। पुलिस को सूचना मिली थी कि किराए पर कमरे दिए जा रहे हैं। इलाके में कुछ होटल क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए थे। उसके लिए प्रशासन से अनुमति ली गई थी। शेष होटल और रेस्टोरेंट बंद चल रहे हैं। कोरोना की रोकथाम के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की बात कही जा रही है। एक ही परिवार के सदस्यों को किसी मजबूरी में कमरा दिया जाता तो भी पुलिस कार्रवाई नहीं करती। यहां तो महिला-पुरुष को कमरा दिया गया था। दोनों के बीच कोई रिश्ता नहीं था। पुलिस ने इसी वजह से गार्ड राजू खान के खिलाफ महामारी अधिनियम और लॉकडाउन उल्लंघन के तहत मुकदमा दर्ज किया है। महिला पुरुष को नोटिस देकर छोड़ दिया गया।

होटलों की चेकिंग शुरू

सिकंदरा पुलिस ने इलाके में होटलों की चेकिंग भी शुरू करने का फैसला लिया है। सिकंदरा क्षेत्र के कई होटल पहले से सुर्खियों में है। गलत काम के लिए यहां बिना आईडी के घंटों के हिसाब से कमरे मिलते हैं। पूर्व में इधर कई बार छापेमारी हो चुकी है। कुछ होटल तक सीज तक किए गए थे। बाद में यही होटल दूसरे नाम से खुल जाते हैं।

ज्यादातर होटलों में एक व्यक्ति का हस्तक्षेप

चर्चा है कि इलाके में ज्यादातर होटल के संचालन में एक व्यक्ति का हस्तक्षेप रहता है। वह उन्हें किराए पर लेता है। अलग-अलग लोगों को उनकी देखरेख की जिम्मेदारी देता है। अपनी शर्तों पर ऐसे होटलों का संचालन कराता था। फिलहाल 22 मार्च से यह धंधा बंद चल रहा है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें