जेल से बाहर आए अभिषेक बच्चन, लोगों ने लगाए जिंदाबाद के नारे, जानें पूरा मामला

Smart News Team, Last updated: 14/03/2021 04:16 PM IST
  • जेल से बाहर आते अभिषेक बच्चन ने हाथ हिलाकर अपने समर्थकों का अभिवादन स्वीकार किया. आप सोच रहे होंगे की आखिर ये क्या माजरा है. अभिषेक बच्चन जेल में कब गए और ये बहार क्यों आ रहें है
जेल से बाहर आए अभिषेक बच्चन, लोगों ने लगाए जिंदाबाद के नारे, जानें पूरा मामला (फाइल फ़ोटो)

आगरा: शनिवार को केंद्रिय कारागार आगरा से बहार आए अभिषेक बच्चन समर्थकों ने नेताजी जी जिंदाबाद के जमकर नारे लगाए. जेल से बाहर आते अभिषेक बच्चन ने हाथ हिलाकर अपने समर्थकों का अभिवादन स्वीकार किया. आप सोच रहे होंगे की आखिर ये क्या माजरा है. अभिषेक बच्चन जेल में कब गए और ये बहार क्यों आ रहें है चौकिए नही ये सब आगरा सेंट्रल जेल में एक फिल्म (दसवीं) की शूटिंग हो रही थी.

जेल के बाहर जुटी भीड़ अभिषेक बच्चन की प्रशंसक नहीं बल्कि नेता गंगा राम चौधरी के समर्थक जिसकी भूमिका इस फिल्म में अभिषेक बच्चन निभा रहें हैं. जाे अपने नेता के दर्शन के लिए केंद्रीय कारागार के बाहर जुटे थे. शनिवार को गंगा राम चौधरी का अपने समर्थकों से मुलाकात का सीन था. इसमें वह जेल से बाहर जाते समय अपने समर्थकों का अभिवादन करता है.

FIR होने पर भड़के अखिलेश यादव, बोले- यह केस भाजपा की हताशा का प्रतीक है

केंद्रीय कारागार आगरा में फिल्म दसवीं की शूटिंग चल रही है. फिल्म की मुख्य भूमिका में अभिषेक बच्चन, यामी गौतम और निमरत कौर हैं. अभिषेक बच्चन फिल्म में प्रभावशाली दबंग नेता गंगा राम चौधरी का किरदार निभा रहे हैं. जो किसी मामले में जेल में निरुद्ध है. अपने रसूख का इस्तेमाल कर जेल मैनुअल को तोड़कर अपने हिसाब से रहना चाहता है. मगर, जेल अधिकारी ज्योति देशवाल की भूमिका निभा रही यामी गौतम उस पर धीरे-धीरे अनुशासन का शिकंजा कसती हैं. वह गंगा राम चौधरी को जेल नियमों में बांध देती हैं.

Up Panchayat Election: गांव-गांव चौपाल कर रही है बीजेपी, जानिए क्या है खास

समर्थकों की भीड़ जुटाने के लिए फिल्म की प्रोडक्शन टीम ने स्थानीय इवेंट मैनेजमेंट टीम से संपर्क किया था. स्थानीय लोगों को फिल्म में गंगाराम चौधारी के समर्थकों की भूमिका निभानी थी. इसके लिए आवास विकास कालोनी सेक्टर 16 के दर्जनों युवक-युवतियों को बुलाया गया था. उन्हें अभिषेक के जेल से बाहर आने पर गंगा राम चौधरी जिंदाबाद के नारे लगाने थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें