पोस्टर लेकर सरेंडर करने पहुंचे आगरा बस हाइजैक के आरोपी, लिखा- पकड़ ले पुलिस

Smart News Team, Last updated: 07/09/2020 03:44 PM IST
  • आगरा बस हाईजैक प्रकरण में मलपुरा थाने में दो आरोपियों ने समर्पण किया दोनों आरोपी पैदल-पैदल थाने में आए. उन्होनें अपने हाथ में पोस्टर लिया हुआ था जिस पर लिखा हुआ था कि बस कांड में नाम आया था पुलिस पकड़ ले. 
पोस्टर लेकर सरेंडर करने पहुंचे आगरा बस हाइजैक के आरोपी, लिखा- पकड़ ले पुलिस

आगरा. आगरा के थाना मलपुरा में सोमवार की दोपहर बस हाइजैक के दो आरोपियों ने सरेंडर कर दिया. उनके पुलिस थाने पहुंचते ही हड़बड़ी मच गई. दोनों आरोपी हाथों में पोस्टर लिए पैदल चले आ रहे थे. वो सरेंडर करने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. पुलिस उन्हें कोर्ट में पेश करने की तैयारी में जुट गई. इससे पहले इस मामले में कई और आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है.

गौरतलब हो की 18 अगस्त 2020 की रात करीब 10:30 बजे दो कार सवार बदमाशों ने न्यू दक्षिणी बाइपास पर 34 सवारियों से भरी ग्वालियर की कल्पना ट्रेवल्स की बस को हाइजैर कर लिया था. चालक ग्वालियर के डबरा निवासी रमेश था. उसके साथ परिचालक मध्य प्रदेश के थाना छत्तरपुर के गांव चन्देला निवासी रामविलास और हेल्पर देवरी कलां ग्वालियर का भोला था. तीनों को कार में बन्धक बना लिया. एक बदमाश बस को चलाकर कुबेरपुर पहुंचा.

आगरा: बस मालिक की कोरोना से हुई मौत तो कर्ज देने वाले ने किया बस को हाइजैक

 बदमाशों ने खुद को एक फाइन्नेस कम्पनी का कर्मचारी बताया और सवारियों की टिकट के 23600 भी ले लिए. इसके बाद चालक, परिचालक और हेलपर को सुनसान जगह छोड़कर बस को ले गए. बस में 34 सवारियां भी थी. तीनों ने दूसरे दिन मामले की जानकारी थाना मलपुरा में दी. सूचना मिलते ही विभाग में हड़कंप मच गया. पुलिस ने इटावा जिले से बस बरामद कर ली.

आगरा: बस हाईजैक मामले में तीन गिरफ्तार, मुख्य आरोपी को हुई जेल

जांच में मुख्य आरोपित प्रदीप गुप्ता समेत 12 लोग प्रकाश में आ गए थे. पुलिस ने शुक्रवार सुबह नौवें आरोपित नन्दनगरी दिल्ली के हरिविंदर को दिल्ली से ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लेकिन सोमवार को सुबह 11 बजे दिल्ली के नन्दनगरी निवासी मनोज बघेल और सूरज बघेल थाने पहुंच गए. वे हाथों में पोस्टर भी थामे थे. हाथों में लगे पोस्टर लेकर अंदर चलने लगे. उस पर खुद के सरेंडर करने सम्बन्धी लिखा था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें