21 महीने बाद भी नहीं मिला आगरा की बेटी संजलि को इंसाफ, जमानत पर छूट गया आरोपी

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 03:54 PM IST
  • घटना के 21 माह बाद भी संजलि को इंसाफ नहीं मिला पाया. मामला कोर्ट में लंबित है. आरोपी की जमानत से परेशान परिजनों ने पुलिस पर कोर्ट में पैरवी नहीं करने का आरोप लगाया. 18 दिसंबर 2018 को स्कूल से लौटते वक्त संजलि को जिंदा जला दिया गया था.
आगरा में 21 महीने पहले हुए संजलि मर्डर मामला कोर्ट में चल रहा है.

आगरा. मलपुरा के लालऊ गांव में 21 माह पहले हुए संजलि हत्याकांड में पीड़िता को अब तक न्याय नहीं मिल सका है. मामला अब भी कोर्ट में लंबित में है. इस बीच जेल में बंद इस हत्याकांड के आरोपी की जमानत से परिजनों में काफी हताशा है. परिजनों को डर सता रहा है कि उनके साथ कभी भी कोई अनहोनी हो सकती है. आपको बताते चलें कि मामले में एक आरोपी को जमानत मिल गई है, जबकि दूसरे आरोपी को भी इसी आधार पर जमानत मिलने की बात कही जी रही है. साथ ही परिजनों को आशंका है कि आरोपी उन पर कोर्ट में पैरवी नहीं करने का दवाब बनाएंगे.

आगरा में अवैध रूप से चल रहे हुक्का बार का वीडियो वायरल, पुलिस ने कहा- पुराना है

गौरतलब है कि 18 दिसंबर 2018 को स्कूल से लौटते वक्त 15 वर्षीय संजलि को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया था. इस घटना के देश भर में आक्रोश का माहौल था और जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हुए. इसके बाद 25 दिसंबर को पुलिस ने अपनी तहकीकात में पाया कि संजलि के ताऊ के बेटे ने ही एक तरफा इश्क में वारदात को अंजाम दिया था. इसके बाद घटना के एक आरोपी ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली थी.

थोड़े से पैसों के लिए दबंगों ने घर में घुसकर परिवार को पीटा, वीडियो CCTV में कैद

संजलि के पिता ने बताया कि पुलिस ने चार्जशीट तो समय पर लगा दी लेकिन कोर्ट में पैरवी नहीं की. इसके अलावा पुलिस ने हाईकोर्ट में भी जमानत का विरोध नहीं किया और आरोपी आकाश को हाईकोर्ट से जमानत मिल गई. हालांकि आरोपी आकाश अब भी जेल में बंद है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें