आगरा में वीकेंड लॉकडाउन का पर्यावरण पर असर, बदल गई ताजनगरी की आबोहवा

Smart News Team, Last updated: 20/07/2020 07:21 PM IST
  • कोरोना वायरस को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में सभी जिलों में वीकेंड लॉकडाउन लागू है. अब इस शनिवार और रविवार लगने वाले लॉकडाउन का असर आगरा की आबोहवा में देखने को मिल रहा है.
सुधर गई आगरा की आबोहवा (फाइल फोटो)

आगरा. कोरोना से नियंत्रण के लिए उत्तर प्रदेश में सभी जिलों में वीकेंड लॉकडाउन लागू है. इस वीकेंड लॉकडाउन का असर आगरा की आबोहवा में देखने को मिला. वीकेंड लॉकडाउन के कारण जिले में वायु प्रदूषण में बेहद कमी आई है. रविवार को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने एक रिपोर्ट जारी करके जानकारी दी और बताया कि आगरा की वायु गुणवत्ता में सुधार हुआ है. अब आगरा की वायु गुणवत्ता संतोषजनक बताई जा रही है. कहा गया है कि जिले में वीकेंड लॉकडाउन के कारण वाहन न चलने से प्रदूषण स्तर में कमी आई है.

वायु गुणवत्ता या एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) की बात करें तो जिले में रविवार को ये 57 दर्ज किया गया. वहीं शनिवार को एक्यूआई 83 था. कहा गया है कि हवा में अति सूक्ष्म कणों की मात्रा अधिक घुली रही. बता दें कि सीपीसीबी ने रविवार को संजय प्लेस स्थित ऑटोमेटिक मॉनीटरिंग स्टेशन पर पिछले 24 घंटे के आंकड़ें जमा करके इस आधार पर वायु प्रदूषण की रिपोर्ट जारी की है. सीपीसीबी ने वायु गुणवत्ता पर रिपोर्ट दर्ज करने के लिए गाइडलाइन रखी है जिसके अनुसार एक्यूआई 0-50 होने पर गुणवत्ता अच्छी और 51-100 होने पर संतोषजनक होती है.

जल्द बंद हो जाएगी रेलवे की 165 साल पुरानी ये सुविधा, विरोध में हो रहा प्रदर्शन

रविवार को एक्यूआई 57 दर्ज हुआ जो गाइडलाइन के अनुसार संतोषजनक है. बता दें कि रविवार को हवा में हानिकारक कार्बन मोनोऑक्साइड की अधिकतम मात्रा 131 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर थी जो शनिवार की मात्रा के बराबर ही रही. सीपीसीबी के अनुसार इसका मानक चार माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तय है. 

अब सुबह 9 से रात नौ बजे तक खुलेंगे आगरा के बाजार, सर्राफा मार्केट भी खुला

शनिवार और रविवार को ये मानक से 32 गुना अधिक रही. हवा में शनिवार को अति सूक्ष्म कणों की मात्रा 119 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर थी. रविवार को ये मात्रा कम होकर 84 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गई. हालांकि इसका मानक 14 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तय है. रविवार को ये मानक से 60 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर ज्यादा रही.

अन्य खबरें