Agra AQI: ताजनगरी का वायु प्रदूषण स्तर खराब, जहरीली हुई हवा, दमा के मरीज बढ़े

Smart News Team, Last updated: Thu, 22nd Oct 2020, 11:57 PM IST
  • आगरा में वायु प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है. आगरा में गुरूवार को शाम को आगरा की हवा में कार्बन के कण अधिकतम 349 पीएम दर्ज किया गया. जिससे लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है.
आगरा में बीते चौबीस घंटे में वायु प्रदूश्षण तेजी से बढ़ा है.

आगरा. ताजनगरी आगरा की हवा खराब होती जा रही है. गुरूवार को आगरा की हवा में कार्बन के कण अधिकतम 349 पीएम दर्ज किया गया. शहर की हवा खराब होने से लोगों में एलर्जी की शिकायत शुरू हो गई है. लोगों को इस जहरीली हवा में सांस लेने में दिक्कत आ रही है. 24 घंटे में आगरा के प्रदूषण में बहुत तेजी आई है.

आगरा के फिजिशियन अरविंद जैन ने कहा कि सांस, दमा और अस्थमा के रोगियों की दिक्कत बढ़ रही है. नाक और आंख बह रही है. इनके रोगी बढ़ गए हैं. खुले में बिना मास्क के निकलना रोग को दावत देने जैसा है. उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कोरोना और रफ्तार पकड़ेगा. आने वाला समय मुश्किल भरा होगा.

आगरा: पत्नी ने किया आत्मदाह, इंसाफ के लिए दर-दर भटक रहा है फौजी पति

आगरा में शाम 6 बजे हवा में कार्बन के कणों की मौजूदगी 271 मीटर मीटर क्यूब थी. समय से पहले शहर में धुंध और प्रदूषण का बढ़ने वजह बादलों की आवाजाही बताई जा रही है. आरसीबी काॅलेज के मौसम वैज्ञानिक डाॅ. पवन सिसोदिया ने कहा कि आगरा में ऐसी स्थिति नहीं थी. दिल्ली और आसपास के इलाकों में पराली जलने के बाद उड़कर आए रसायन यहां ठहर गए हैं. उन्होंने इसकी वजह अचानक हवा रूकने को बताया.

आगरा में नकली और नशीली दवाओं के अवैध कारोबारियों पर होगी कार्रवाई

पराली के रसायन के अलावा मौसम में नमी बढ़ने और बादलों की आवाजाही भी शुरू हो गई है. मौसम वैज्ञानिक पवन ने कहा कि समय घरों-व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में साफ-सफाई चल रही है. जिसकी हवा भी आसमां में घुल गई है. इसके अलावा शहर में जगह-जगह पर चल रहे निर्माण कार्य से निकल रही धूल ने आगरा की हवा को सबसे ज्यादा जहरीला किया है.

आगरा: जमीन को लेकर हैवान बन गया बड़ा भाई, बेरहमी से कर दी छोटे की हत्या

मौसम वैज्ञानिकों की माने तो लगभग 10 दिन तक आगरा की हवा इसी प्रकार जहरीली रहने वाली है. उनका मानना है कि अगर बारिश हुई तो इससे राहत मिल सकती है लेकिन फिलहाल उसके आसार नजर नहीं आ रहे हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें