देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर बना आगरा, दिल्ली व गाजियाबाद को भी छोड़ा पीछे

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 10:26 PM IST
  • आगरा में निर्माण कार्यों के कारण प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. हैरान करने वाली बात तो यह है कि आगरा के प्रदूषण ने गाजियाबाद और दिल्ली जैसे शहरों को भी पीछे छोड़ दिया है और देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर बन चुका है.
आगरा में बढ़ रहा है प्रदूषण

आगरा: आगरा में निर्माण कार्यों के कारण प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. हैरान करने वाली बात तो यह है कि आगरा के प्रदूषण ने गाजियाबाद और दिल्ली जैसे शहरों को भी पीछे छोड़ दिया है और देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर बन चुका है. प्रदूषण को लेकर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सूची जारी की थी, जिसमें कानपुर को देश का सबसे प्रदूषित शहर बताया गया. कानपुर में हवा की गुणवत्ता जहां 390 रही तो वहीं आगरा दूसरे नंबर पर सबसे प्रदूषित शहर रहा, जहां एक्यूआई का स्तर करीब 355 दर्ज किया गया.

आगरा के बाद गाजियाबाद देश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर रहा, जिसका एक्यूआई लेवल 347 पर था. हालांकि, शुक्रवार को जारी किए सीपीसीबी की सूची के मुताबिक आगरा की हवा में जहरीली गैसों में कमी आई है, लेकिन धूल के कणों की मात्रा अभई भी सामान्य से छह गुना अधिक बनी हुई है. इसके अलावा कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा भी हवा में सामान्य बनी हुई है. आगरा की हवा में पार्टिकुलेट मैटर 2.5 और पीएम 10 की मात्रा सामान्य से छह गुना अधिक दर्ज की गई. आगरा की हवा में पीएम 2.5 कणों की संख्या करीब 397 पर थी.

आगराः फुटवियर इंडस्ट्री पर कोरोना की मार, लॉकडाउन के डर से नहीं हो रहे ऑर्डर कंफर्म

रिपोर्ट के मुताबिक ताज ट्रिपेजियम जोन होने के बावजूद आगरा की हवा में प्रदूषण की मात्रा अधिक है. इसके साथ ही आगरा में धून नियंत्रण के भी कोई उपाय नहीं किये जा रहे हैं, जिससे धूल कणों की संख्या जस की तस बनी हुई है. आगरा में प्रदूषण का मुख्य कारण यहां होने वाले निर्माण कार्य हैं. आगरा में सबसे प्रदूषित स्थान ईदगाह चौराहा रहा, जहां एक्यूआई 467 दर्ज किया गया, इसके बाद आईएसबीटी, विभव नगर, बाग फरजाना बसई तिराहा प्रदूषित क्षेत्र रहे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें