बीजेपी सांसद की CM योगी से मांग, चंबल नदी से मिले फतेहपुर सीकरी क्षेत्र को पानी

Smart News Team, Last updated: 24/07/2020 05:43 PM IST
  • बीजेपी सांसद राजकुमार चाहर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि फतेहपुर सीकरी क्षेत्र को पानी चंबल नदी से मिले. उन्होंने लखनऊ में सीएम योगी से मुलाकात भी की.
बीजेपी सांसद की CM योगी से मांग, चंबल नदी से मिले फतेहपुर सीकरी क्षेत्र को पानी

फतेहपुर सीकरी के सांसद राजकुमार चाहर ने गुरुवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. सासंद ने मुख्यमंत्री के सामने फतेहपुर सीकरी क्षेत्र में हो रहे जल संकट की समस्या रखी और इसके समाधान का सुझाव भी दिया. साथ ही उन्होंने आलू किसानों के हित में आगरा में अंतर्राष्ट्रीय आलू शोध केंद्र की स्थापना के संबंध में चर्चा की.

बकरीद और रक्षाबंधन पर बढ़ेगा बसों का किराया, लोकल रूट पर चलेंगी सबसे ज्यादा बस

राजकुमार ने सीएम योगी को बताया कि फतेहपुर सीकरी लोकसभा क्षेत्र में आगरा, किरावली, खेरागढ़, फतेहाबाद और बाह सहित पांच तहसीलें आती हैं. सभी भूजल के मामले में डार्क जोन घोषित हैं. इनमें से कुछ में भूजल एक हजार फुट गहराई तक नहीं है. समस्या ये भी है कि जहां भूजल मिल रहा है वहां पानी में फलोराइड की मात्रा ज्यादा है जो उपयोग करने लायक नहीं है. क्षेत्र की स्थिति लगभग बुंदेलखंड जैसी हो गई है.

खौफनाक: आगरा में भरे बाजार सेकेंडों में आग का गोला बन गई दौड़ती हुई CNG कार

इस जल संकट से निपटने के लिए उन्होंने सुझाव दिया है कि फतेहपुर सीकरी लोकसभा क्षेत्र में पानी चंबल नदी से दिया जाए. दरअसल ये क्षेत्र यमुना और चंबल नदी के बीच स्थित है. चंबल नदी क्षेत्र से लगभग 65 किमी तक सटकर गुजरती है. नदी का पानी स्वच्छ एवं पीने के योग्य है. इसे रिवर लिफ्ट योजना द्वारा सीधे सप्लाई किया जा सकता है.

ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी ने की सैन्यकर्मी से ठगी, आईफोन और घड़ी के लिए 50 हजार रुपए

बता दें कि राजस्थान के भरतपुर जिले में 150 किमी की दूरी से धौलपुर से चंबल के पानी की सप्लाई की जा रही है. सांसद ने कहा कि आगरा में पूरे चंबल क्षेत्र को घड़ियाल क्षेत्र घोषित कर रखा है इसकी वजह से आगरा को लाभ नहीं मिल पा रहा है. इसे सीमित करने एवं क्षेत्र निर्धारण की आवश्यकता है. इस पर मुख्यमंत्री ने सहमति व्यक्त करते हुए अधिकारियों को कार्यवाही के निर्देश दिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें