आगरा कैंट जीआरपी को मिली बड़ी सफलता, शातिर जहरखुरान गिरफ्तार, दर्ज हैं 19 मुकदमा

Somya Sri, Last updated: Thu, 18th Nov 2021, 2:53 PM IST
  • आगरा कैंट जीआरपी ने आज शातिर चोर और जहरखुरान को स्टेशन के चौकाघाट आउटर से गिरफ्तार किया है. आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है. प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार शर्मा के मुताबिक पकड़ा गया आरोपी अंबिया मंडी निवासी सरफराज अहमद है. उसके खिलाफ जीआरपी थाने में चोरी, छिनैती, जहरखुरानी सहित कई मामलों में पहले से कुल 19 मुकदमे दर्ज है.
आगरा कैंट जीआरपी को मिली बड़ी सफलता, शातिर जहरखुरान गिरफ्तार, दर्ज है 19 मुकदमा. (प्रतीकात्मक फोटो)

आगरा: आगरा कैंट जीआरपी को बड़ी सफलता मिली है. 19 मामलों में दर्ज मुकदमे में शातिर चोर और जहरखुरान को कैंट जीआरपी ने स्टेशन के चौकाघाट आउटर से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. गिरफ्तारी आज यानी गुरुवार को हुई है. प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार शर्मा के मुताबिक पकड़ा गया आरोपी अंबिया मंडी निवासी सरफराज अहमद है. उसके खिलाफ जीआरपी थाने में चोरी, छिनैती, जहरखुरानी सहित कई मामलों में पहले से कुल 19 मुकदमे दर्ज है.

जानकारी के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी कि चौकाघाट आउटर के नीचे लकड़ी की टाल के पास सरफराज अहमद खड़ा है. जिसके बाद पुलिस की गश्त मौके पर पहुंची और उसे हिरासत में ले लिया. इस दौरान पुलिस ने जब उसकी तलाशी ली तो उसके पास से करीब दो सौ ग्राम नशीली गोली और मोबाइल फोन मिला. जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है. पुलिस ने बताया कि उसने अपना नाम और पता पूछताछ में बताया है .उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया.

प्रेमी की शादी में जहर लेकर पहुंची प्रेमिका का हंगामा, सदमे से दुल्हन के मामा की मौत

बता दें कि ऐसे शातिर अपराधी एक्सप्रेस ट्रेनों में यात्रियों को नशीला पदार्थ देकर लूट की घटना को अंजाम देते हैं. पुलिस का कहना है कि आजकल जहरखुरानी ज्यादा सक्रिय हो गए हैं. इसलिए जरूरी है कि पैसेंजर ट्रेन में सफर करने के दौरान सतर्क रहें. पुलिस ने कहा कि किसी भी व्यक्ति द्वारा कुछ खाने को मिले तो कतई नहीं खाना चाहिए. पुलिस का कहना है कि ऐसे मामलों में पैसेंजर को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी संदिग्ध व्यक्ति से ज्यादा बात न करे. मौके पर उप निरीक्षक शिव मूरत यादव, हेड कॉन्स्टेबल अली अतहर और सिपाही दीपक कुमार सहित कई सिपाही मौजूद थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें