कोरोना काल में चांद की चांदनी में ताजमहल देखने पर लगा ग्रहण, नहीं मिलेगी अनुमति

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 10:53 AM IST
  • इस बार आगरा के ताजमहल को पूर्णिमा के चांद के सबाब में नहाए देखने के लिए इंतजार में बैठे सैलानियों के लिए बुरी खबर है. दरअसल कोरोना की वजह से केन्द्रीय स्वस्थ्य और गृह मंत्रालय की गाइड लाइन में इसकी अनुमति नहीं मिल पाई है.
कोरोना के की वजह से चांदनी में संगमरमर के सफेद ताजमहल के रूप को निहारने के लिए अभी पर्यटकों को इंतजार करना पड़ेगा.

आगरा. चांद की मखमली चांदनी में संगमरमर के सफेद ताजमहल के रूप को निहारने के लिए अभी पर्यटकों को इंतजार करना पड़ेगा. कोरोना काल में ठप पड़ गए काम काज की वजह से सैलानियों की यह इच्छा फिलहाल पूरी नहीं हो सकेगी. साल में पांच दिन 29 सितंबर से तीन अक्टूबर के बीच पांच दिन मिलने वाले इस मौके से पर्यटक वंचित रह जाएंगे. दरअसल कोरोना की वजह से केन्द्रीय स्वस्थ्य और गृह मंत्रालय की गाइड लाइन में इसकी अनुमति नहीं मिल पाई है.

पिटाई से तंग आकर 11 दिन में छोड़ा पति,ससुराल वालों ने रची लुटेरी दुल्हन की साजिश

बता दें कि कोरोना की वजह से ताजमहल 17 मार्च से पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया था. अनलॉक 4 में इसे 21 सितंबर से खोला जाएगा. इसके साथ ही आगरा किला भी 21 सितंबर से ही खुल जाएगा. पर्यटकों के लिए अन्य स्मारक इससे पहले ही खुल चुके हैं. ऐसे में अब ताज खोलने के लिए तैयारियां पूरी की जा रही हैं. इसमें दो स्लॉट में 2500-2500 सैलानियों को प्रवेश करने की अनुमति दी गई है.

आगरा: फांसी के फंदे पर लटकी मिली मां तो मासूम बेटियों ने कहा…

गौरतलब है कि इस बार पू्र्णिमा एक अक्टूबर को पड़ रही है. इसके दो दिन पहले से ही यानी 29 सितंबर को ताज को रात में देखने का दिन शुरू हो जाता है और तीन अक्टूबर तक होता है. लेकिन इस बार कोरोना की वजह से इसकी अनुमति नहीं दी गई है. कोरोना ना होने पर पहले भी रात में ताज का दीदार करने वाले सैलानियों के लिए पुलिस फोर्स द्वारा अलग से व्यवस्था करनी होती थी. कोरोना काल में ताज का रात में दीदार करने के लिए स्वास्थ्य और गृह मंत्रालय की सहमति के बाद पुरातत्व महानिदेशालय के आदेश का भी इंतजार करना होगा. इस बारे में पुरातत्वविद अधीक्षण और वसंत कुमार ने बताया कि अभी ताज को रात में खोले जाने की कोई संभावना नहीं है. कोरोना प्रोटोकॉल के अनुसार ही किसी तरह का निर्णय लिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें