आगरा: केमिकल फैक्ट्री की आग देख सहमे आस पास के लोग, फायरब्रिगेड ने संभाला मोर्चा

Smart News Team, Last updated: Tue, 8th Sep 2020, 8:14 AM IST
  • आगरा के सोल और केमिकल फैक्ट्री में आग की लपटें देख डर कर पास ही रहने वाला एक चौकीदार का परिवार भाग कर हाईवे के दूसरे तरफ चला गया. आग इतनी भयंकर थी कि इसे बुझाने में जिले में मौजूद सभी 15 फायर टेंडर मौके पर भेजे गए थे. 
आगरा केमिकल फैक्ट्री में आग.

आगरा. सोमवार दोपहर को आगरा-दिल्ली हाईवे के पास सिकंदरा सब्जी मंडी के पास सोल और कैमिकल फैक्ट्री में भीषण आग लग गई. आग की ऊंची लपटे देख आस-पास वालों के होश उड़ गए. आस पास के कई मकान खाली हो गए. वहीं नजदीक के एक चौकीदार को ऐसा लगा कि आग की लपटें उसके घर में घुस आई. परिवार के सात सदस्य जिस हाल में थे उसी हाल में घर से दौड़ लगा दी. परिवार भागते हुए हाईवे के दूसरी तरफ पहुंच कर ही राहत की सांस ले पाया. दरअसल चौकीदार हरिओम के मकान के पीछे ही आग लगी हुई थी. चौकीदार हरिओम ने बताया कि पत्नी रेश्मा, मां धनदेवी सहित सात लोग घर में मौजूद थे. तभी अचानक धुंआ कमरे में भरने लगा. जब दरवाजा खोला तो होश उड़ गए. मकान के पीछे फैक्ट्री आग का गोला बनी हुई थी. हरिओम ने बताया कि पूरा परिवार इतना डर गया कि हम चप्पल तक नहीं पहन पाए और घर से निकल कर भागने लगे.

वहीं फैक्ट्री के पीछे मां दुर्गा कालोनी है. इस कालोनी में करीब दस मकान हैं. आग देखकर कालोनी में रहने वाले सभी लोग अपने घरों से बाहर आ गए थे. सभी को यह डर सताने रहा था कि अगर आग और भड़केगी तो उनकी कालोनी तक आ जाएगी. इस आशंका के चलते कई लोगों ने तो अपने घरों से गैस सिलेंडर तक बाहर निकाल लिए थे. हालात की गंभीरता को देखते हुए आगरा के सभी अधिकारी भी मौके पर मौजूद थे और लगातार दमकल की गाड़िया आ रही थी. 

खत्म हुआ इंतजार, 21 सितंबर से खुलेगा ताज महल और आगरा किला

जानकारी के मुताबिक 42 साल से ज्यादा पुरानी आगरा कैमिकल फैक्ट्री में कई तरह के कैमिकल रखे थे और सभी ज्वलनशील थे. ऐसे में आग बुझाने में कुल 21 दमकलों और 60 कर्मचारियों ने मोर्चा संभाले हुआ था. फैक्ट्री में कैमिकल ड्रमों रखे हुए थे साथ ही फैक्ट्री के अंदर सुरक्षित तरीके से रखने के लिए अंडर ग्राउंड कई टैंक भी बने हुए थे. इसलिए फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने उन टैंकों को बचाने के लिए जमीन पर पानी भर दिया. सीएफओ अक्षय रंजन शर्मा ने बताया कि हादसे की सूचना पर आगरा जिले में मौजूद सभी 15 फायर टेंडर मौके पर भेजे गए थे. उन्होंने बताया कि शास्त्रीपुरम, संजय प्लेस और ईदगाह के एफएसओ को भी बुला लिया गया था.  ताकि सभी अधिकारी अपने तरीके से दमकल कर्मियों को निर्देश दे सकें. आग को करीब 60 कर्मचारी लगे हुए थे. दरअसल कैमिकल की आग फोम से काबू में आती है. उनके पास जितना फोम था पहले ही दौर में डाल दिया गया था लेकिन उससे काम नहीं बना. फिर एयरफोर्स की दो गाड़ियां मौके पर आई जिनके पास पर्याप्त मात्रा में फोम था और उससे आग पर काबू पाया गया. बताया जा रहा है कि दोनों फैक्टरी में पूर्व सपा नेता राजेंद्र शर्मा साझेदार हैं.

आगरा: 10 साल छोटे लड़के से ब्याह रचाने की सजा, जेठ ने गला दबाकर कर दी हत्या!

मौके पर मौजूद फैक्टरी के कर्मचारियों ने बताया कि हादसा ड्रम से कैमिकल निकालने के दौरान हुआ था. आग बुझाने के दौरान एक दमकल कर्मचारी मामूली रूप से झुलस भी गया. उसे तुरंत इलाज के लिए भेज दिया गया. हालांकि, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं थी. फैक्टरी मालिक ने भी ऐसी जानकारी से इंकार किया. उन्होंने बताया कि किसी कर्मचारी को कोई चोट नहीं आई है. वहीं कैमिकल फक्ट्री में लगी आग से दमकले पानी के लिए इधर-उधर भाग रही थीं. कोई दमकल फैक्टरी एरिया से पानी लेकर आ रही थी तो कोई नयति हॉस्पिटल से. आग की लपटों के कारण पहले ही हाईवे पर यातायात थम गया था. दमकल कर्मियों को राहत कार्य में असुविधा नहीं हो इसलिए मथुरा की तरफ से आने वाला ट्रैफिक बेस्ट प्राइज से डायवर्ट कर दिया गया था. स्थिति की गंभीरता को देखते हुए एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद और एसपी ट्रैफिक प्रशांत कुमार प्रसाद पहले मौके पर पहुंच गए थे. हादसा बड़ा है यह जानकारी होने पर डीएम प्रभु नारायण सिंह और एसएसपी बबलू कुमार भी मौके पर आ गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें