आगरा: टोरेंट पावर से जिलाध्यक्ष के पैसे मांगने को कांग्रेस ने बीजेपी साजिश बताया

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 11:32 PM IST
  • बिजली कंपनी टोरंट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में वायरल वीडियो के मामले में पूर्व विधायक और तीन सदस्यीय जांच समिति के अध्यक्ष प्रदीप माथुर ने इसे बीजेपी की साजिश बताया है.
जांच समिति में उपस्थित सदस्य

आगरा. बिजली कंपनी टोरंट के खिलाफ प्रदर्शन नहीं करने के बदले कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित का मध्यस्थ से पांच लाख रुपये एकमुश्त और तीन लाख रुपये मासिक की मांग करते हुए वायरल वीडियो मामले को पूर्व विधायक और तीन सदस्यीय जांच समिति के अध्यक्ष प्रदीप माथुर ने इसे बीजेपी की साजिश बताया है. बुधवार को कांग्रेस की तीन सदस्यीय जांच समिति होटल पीएल पैलेस पहुंची. वहां सदस्यों ने पार्टी कार्यकर्ताओं को बुलाकर प्रकरण पर जानकारी ली. जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित, महासचिव शाहिद अहमद, शहर अध्यक्ष देवेंद्र चिल्लू से पूरे घटनाक्रम पर उनका पक्ष भी जाना. समिति के सदस्य प्रदीप माथुर ने बाद में पूरे घटनाक्रम के पीछे बीजेपी की साजिश बताया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष काफी अच्छा काम कर रही थी. लेकिन बीजेपी ने उन्हें और पार्टी को बदनाम करने के लिए कुचक्र रचा.

आगरा में चांदी की बड़ी लूट करने वाला BJP नेता जॉनी गया जेल, लूट का माल बरामद

दरअसल बिजली कंपनी टोरंट के खिलाफ प्रदर्शन नहीं करने के एवज में कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित का मध्यस्थ से पांच लाख रुपये एकमुश्त और तीन लाख रुपये मासिक की मांग करते हुए वीडियो वायरल हुआ था. वीडियो में जिला महासचिव शाहिद अहमद सौदेबाजी कराने पहुंचे थे. वायरल वीडियो 2.50 मिनट का है, जिसमें कांग्रेस जिलाध्यक्ष, अपने पति के साथ बैठी दिखाई दे रही हैं. दूसरी ओर बिजली कंपनी का मध्यस्थ है, जो बिल माफी को लेकर प्रदर्शन नहीं करने के लिए बात कर रहा है. इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष ने जिलाध्यक्ष और महासचिव के इस्तीफे ले लिए थे. हालांकि जिलाध्यक्ष ने खुद को निर्दोष बताया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें