होम आइसोलेट हुए कोरोना संक्रमितों के परिजनों को मिलेगी स्पेशल ट्रेनिंग

Smart News Team, Last updated: Sat, 25th Jul 2020, 2:12 PM IST
  • कोरोना संक्रमित मरीज जो होम आइसोलेशन में रहेंगे उनके परिजनों को स्वास्थ्य विभाग की टीम मरीज की देखभाल के लिए ट्रेनिंग देगी. साथ ही सीएमओ के निर्देश के अनुसार मरीज और परिजनों को नियमों का पालन करना होगा.
होम आइसोलेट कोरोना संक्रमितों के परिजनों को मिलेगी स्पेशल ट्रेनिंग

आगरा में कोरोना संक्रमित केसों में कई ऐसे केस हैं जिनके कोई लक्षण नहीं है. ऐसे में डॉक्टरों ने उन्हें होम आइसोलेशन में रहने के लिए कहा है. इन मरीजों के परिजनों को अब स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्पेशल ट्रेनिंग करवाई जाएगी. इसके लिए मरीजों और परिजनों को जरूरी नियम और शर्तों का पालन करना होगा. साथ ही मरीज को शपथ पत्र भी देना होगा.

आगरा में बदहाल इंतजाम, खुद मरीज बता रहे कोरोना स्टेटस, घंटों में होती है भर्ती

सीएमओ डा. आरसी पांडे ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि किसी को होम आइसोलेशन में भेजने से पहले रेपिड रेस्पांस टीम संक्रमित के घर पर जाकर देखती है कि मरीज के लिए अलग वॉशरूम और अलग कमरा हो. ऐसा होने पर ही किसी को होम आइसोलेशन की अनुमति दी जाती है. साथ ही मरीज की देखरेख के लिए घर के किसी एक सदस्य को जरूरी बातें बताई जाती हैं. वहीं स्वास्थ्य विभाग की टीम भी लगातार मरीज की सेहत ट्रैक करती है.

कंटेनमेंट जोन में लापरवाही से केस बढ़े, कोरोना संक्रमित में 30 प्रतिशत यहां से

नियमों के अनुसार मरीज की देखभाल के लिए 24 घंटे एक व्यक्ति होना जरूरी है. केवल इतना ही नहीं परिवार के सभी सदस्य क्वारंटाइन रहेंगे. मरीज को हमेशा मास्क और ग्लव्स पहन कर रहना होगा. मरीज के लिए एक किट खरीदनी होगी. किट में आक्सीमीटर, थर्मामीटर, बताई गईं दवाइयां, ग्लव्स, मास्क, हाइपोक्लोराइड सोल्यूशन होना चाहिए.

ताजनगरी में खुशखबरी: SNMC में प्लाज्मा थेरेपी से ठीक हुआ पहला कोरोना मरीज

मरीज को त्रिस्तरीय मास्क पहनना होगा और आठ घंटे के प्रयोग के बाद या गीला या गंदा होने पर बदलना होगा. इस्तेमाल किए मास्क को एक प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट घोल से विसंक्रमित करने के बाद ही फेंकना होगा. दस दिन के होम आइसोलेशन में बुखार ना आने पर ही आइसोलेशन बंद किया जाता है. इसके बाद मरीज को होम क्वाराइन्टीन रहना होगा. आगरा में 21 जुलाई से अब तक 15 मरीज होम आइसोलेट हुए हैं. इन सभी को और इनके परिजनों को ट्रेनिंग दी जा रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें