गरीब की पहुंच से दूर होम आइसोलेशन में कोरोना का इलाज, कीमत सुनकर आप भी चौंक जाएं

Smart News Team, Last updated: 06/08/2020 02:08 PM IST
  • आगरा में दवाएं बेचने वाले दुकानदारों ने होम आइसोलेशन किट पर रेट बढ़ा दिए हैं. आम जनता के लिए ये किट बेहद महंगी साबित हो रही है. पहले से ज्यादा दामों में दुकानदार किट बेच रहे हैं. इसमें दवाओं से ज्यादा उपकरणों पर दाम बढ़ाए गए हैं. 
गरीब की पहुंच से दूर होम आइसोलेशन में कोरोना का इलाज, कीमत सुनकर आप भी चौंक जाएं

आगरा में एक ओर कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं जिससे सरकार निपटने की हर मुमकिन कोशिश कर रही है. वहीं दूसरी ओर कुछ लोगों ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया है. जिले में बिना लक्षण वाले कोरोना संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेशन में भेजा जा रहा है. इसके लिए उन्हें एक किट खरीदने के निर्देश दिए गए हैं. लेकिन लोगों को ये किट खरीदना भारी पड़ रहा है क्योंकि दुकानदारों ने पहले के मुकाबले इस किट के दाम बढ़ा दिए हैं. 

किट में कुछ उपकरण और दवाएं हैं. दुकानदारों ने सभी के दाम बढ़ाकर बेचना शुरू कर दिया है. होम आइसोलेशन शुरू होने के बाद किट के सामान के दाम बढ़ गए हैं. इसमें डिजीटल थर्मामीटर, थर्मल स्कैनर, बीपी, शुगर और पल्स ऑक्सीमीटर के साथ दवाएं शामिल हैं. दरअसल पहले ये केवल डॉक्टर द्वारा या अस्पताल में खरीदी जाती थी. कोरोना के चलते होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को इसे खरीदना पड़ रहा है. इन सामान की डिमांड बढ़ते ही दुकानदारों ने इनके रेट भी बढ़ा दिए हैं.

आगरा: पीएसी के 17 जवान और पांच पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित, कुल आंकड़ा 1963

पहले के मुकाबले इनके दाम दोगुना हो गए हैं. यहां तक की 700 रुपए वाला थर्मल स्कैनर चार से छह हजार रुपए तक बिक रहा है. इसके अलावा पल्स ऑक्सीमीटर 900 से 1600 रुपए का, बीपी मशीन 1600 रुपए की, शुगर मशीन 500 से 1200 रुपए की और डिजीटल थर्मामीटर 150 से 400 रुपए का मिल रहा है. पांच महीने से चल रहे लॉकडाउन के कारण लोगों के रोजगार बंद पड़े हैं और कुछ की नौकरियां जा चुकी हैं. ऐसे में सामान्य लोगों के लिए किट का प्रबंध आसान नहीं है.

कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच नहीं खुलेगा आगरा ताज महल, जिम भी बंद

किट में पांच दवाएं रखने के लिए कहा गया है. इनमें से विटामिन सी और डी, पैरासीटामोल, एजीथ्रोमाइसिन मेडिकल स्टोर्स पर उपलब्ध हैं लेकिन बाकि दवाएं सिर्फ सरकारी सप्लाई में जा रही हैं. बाजार में इनकी कमी है. रेमडेसीवीर की टैबलेट अभी बाजार में नहीं है. यदि ये बाजार में मिल भी रही हैं तो इनके दाम बेहद अधिक हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें