आगरा में कोरोना की हालत भयावह, 1 महीने में बने दोगुने कंटेनमेंट जोन

Smart News Team, Last updated: 27/07/2020 01:06 PM IST
आगरा में कोरोना वायरस बढ़ने से लगभग 102 इलाके कंटेनमेंट जोन में हैं. पिछले एक महीने में कंटेनमेंट जोन की संख्या दोगुनी हो गई है. कोरोना संक्रमित मरीजों को दवाइयां भी नहीं मिल पा रही हैं.
आगरा में भयावह कोरोना की हालात, 1 महीने में बने दोगुने कंटेनमेंट जोन

आगरा में कोरोना वायरस इतनी तेजी से फैल रहा है कि पिछले एक महीने में यहां कंटेनमेंट जोन दोगुने हो गए हैं. प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के लिए परेशानी खड़ी हो गई है क्योंकि कंटेनमेंट जोन में ज्यादा हेल्थ सर्वे करना पड़ रहा है लेकिन सभी जगर स्वास्थ्य शिविर नहीं लग पा रहे हैं. स्वास्थ्य शिविर के अलावा दवाएं भी वितरण नहीं कर पा रहे हैं. लोगों ने कहा है कि उन्हें दवाएं नहीं मिल रही हैं.

आगरा: योगी सरकार के मंत्री की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित

जुलाई की शुरुआत में आगरा में कुल 52 कंटेनमेंट जोन थे. ये अब लगभग दोगुना हो गए हैं. रिकवरी रेट में भी गिरावट आई है. कंटेनमेंट जोनों में लॉकडाउन नियमनुसार प्रतिबंद है. यहां आवगमन और बाजार सभी बंद हैं. कंटेनमेंट जोन में थर्ड पार्टी सर्वे कराया जा रहा है. सर्वे में लोग अपनी समस्या और बीमारी के बारे में बता सकते हैं. सर्वे में सामने आ रही परेशानियों का समाधान भी निकाला जा रहा है.

आगरा: कोरोना वॉरियर्स को भी नहीं बख्श रहे चोर, डॉक्टर के घर लाखों की चोरी

वहीं जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह का कहना है कि कई कंटेनमेंट जोन खत्म हुए तो नए जोन भी सामने आए हैं. इन सभी इलाकों में प्रतिबंध लगाया हुआ है. कंटेनमेंट जोन में जरूरी सामान जैसे, दूध, सब्जी और दवाएं लोगों को घर बैठे देने की पूरी कोशिश की जा रही है ताकि लोग घर से बाहर ना निकलें.

नशीली दवा की राजधानी बना आगरा, 11 राज्यों में सप्लाई, 2 सगे भाई गिरफ्तार

बता दें कि कंटेनमेंट जोन में कोरोना संक्रमित ज्यादातर लोग बिना लक्षण वाले हैं. ऐसे लोगों को होम आइसोलेशन में भेज दिया है. इसके लिए लोगों को दवाएं भी दी जा रही हैं. हालांकि लोगों का कहना है कि दवाएं सभी जगह वितरीत नहीं की गई है.

अन्य खबरें