कोरोना कहर के बीच दिल्ली के बाद अब ताजनगरी में भी शुरू होगा रैपिड एंटीजेन टेस्ट!

Smart News Team, Last updated: 09/07/2020 12:48 PM IST
  • ताजनगरी में भी रैपिड एंटीजेन टेस्ट शुरू हो सकता है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इसे दिल्ली में अनिवार्य कर दिया है।
दिल्ली में अनिवार्यता के बाद अब आगरा में भी जल्द शुरू हो सकता है टेस्ट

ताजनगरी में भी रैपिड एंटीजेन टेस्ट शुरू हो सकता है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इसे दिल्ली में अनिवार्य कर दिया है। इसके तहत चिकित्सीय सेवाएं देने वाले सभी संस्थानों को यह परीक्षण करना जरूरी होगा। इसी तरह उत्तर प्रदेश में भी इसके लागू होने के आसार हैं। आगरा में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए ऐसा हो सकता है।

कोरोना के साइड इफेक्ट: जब 13 साल पहले इतरा रहा था ताज, आज बंदी से कराह रहा

दिल्ली में मंत्रालय ने चिकित्सा सेवा देने वाले सभी संस्थानों के लिए रैपिड एंटीजेन परीक्षण जरूरी कर दिया है। इसमें नेजल स्वैब (नाक से नमूना) लिया जाता है। बमुश्किल 15 से 20 मिनट में परिणाम आ जाते हैं। यह पॉजिटिव केस पता लगाने के लिए अच्छा जरिया है। जबकि नेगेटिव रिपोर्ट होने की स्थिति में नमूने को आर्टी-पीसीआर मशीन के लिए भेजा जाता है। संदिग्ध या लक्षण दिखाई देने वाले मरीजों के लिए यह तकनीकी बेहद फायदेमंद है। ऐसे मरीजों की जल्द रिपोर्ट मिलने पर संबंधित का इलाज तत्काल शुरू किया जा सकता है। 

दिल्ली के बाद अब आईसीएमआर ने भी इसकी स्वीकृति दे दी है। सभी सरकारी और निजी चिकित्सकीय सेवाएं देने वाले इस परीक्षण को शुरू कर सकते हैं। हालांकि उत्तर प्रदेश शासन ने अभी इसे शुरू नहीं किया है। माना जा रहा है कि जल्द ही प्रदेश में इस परीक्षण को शुरू किया जा सकेगा। दिल्ली स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के सचिव विक्रम देव दत्त ने इसके लिए विशेष निर्देश भी जारी किए हैं।

अभी नहीं होंगे ताज महल के दीदार, कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार का फैसला

इनका होगा परीक्षण

आईएलआई :- इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस। बुखार, सूखी खांसी, कंपकंपी, ठंड लगना, भूख में कमी, मितली आना, शरीर में दर्द जैसे लक्षण वाले लोग इस श्रेणी में आते हैं। इनका परीक्षण जरूरी है।

एसएआरआई:- सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन। इसमें भी बुखार, खांसी और प्रमुख रूप से श्वांस में दिक्कत, सांस आने-जाने में परेशानी वाले मरीज आते हैं।

हाई रिस्क ग्रुप :- इस श्रेणी में कीमोथेरेपी कराने वाले, एड्स के मरीज, घातक बीमारियां, ट्रांसप्लांट कराने वाले और सभी प्रकार के 65 साल उम्र से अधिक के मरीजों का परीक्षण किया जाएगा।

अन्य खबरें