आगरा:डॉक्टरों ने पेश की मिशाल, ढ़ाई घंटे की कड़ी मशक्क्त के बाद निकाला ट्यूमर

Smart News Team, Last updated: Tue, 10th Nov 2020, 12:14 PM IST
एसएन मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने पेश की मिशाल. बांदा की रहने वाली महिला को कैंसर हुआ तो पति ने घर से निकाल दिया. जिसके बाद परिजन उसे एसएन मेडिकल कॉलेज ले गए. डॉक्टरों ने ढ़ाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद ट्यूमर निकाला गया.
(प्रतिकात्मक फोटो)

आगरा- कोरोना काल में डॉक्टरों ने कई मिसालें पेश की. एक ऐसा ही ताजा उदाहरण एसएन मेडिकल कॉलेज का है. बांदा की रहने वाली महिला को कैंसर हुआ तो पति ने घर से निकाल दिया. जिसके बाद परिजन उसे एसएन मेडिकल कॉलेज ले गए. डॉक्टरों ने ढ़ाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद ट्यूमर निकाला गया.

आगरा में पटाखों की बिक्री और चलाने पर DM ने लगाया बैन, सभी के लाइसेंस रद्द

आपको बताते चलें कि बांदा के कवोली गांव की रहने वाली 30 साल की रजिया खातून की शादी 2016 में हुई थी. दो साल बाद 2018 में कैंसर का पता चला. उसकी पीठ में कैंसर था. मेडिकल साइंस में इसे ‘सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा’कहा जाता है. लगातार इलाज चलता रहा, लेकिन राहत नहीं मिली. पति ने साथ देने और इलाज कराने की बजाए उसे घर से ही निकाल दिया. इतना ही नहीं, दो साल का बेटा भी छीन लिया. कहीं कोई इलाज का प्रबंध नहीं हुआ तो किसी ने उन्हें आगरा जाने की सलाह दी. लिहाजा रजिया के परिवारीजन उसे आगरा ले आए. यहां डॉक्टरों ने उसके तत्काल ऑपरेशन की जरूरत बताई. सोमवार दोपहर करीब ढाई घंटे की मशक्कत के बाद ट्यूमर को शरीर से अलग कर दिया गया.

शादी से पहले लोग ले रहे साइबर एक्सपर्ट की मदद, जानें क्यों है जरूरी

प्राचार्य की सर्जरी टीम

प्राचार्य की टीम में प्लास्टिक सर्जन डॉ. प्रणय चिकोटिया, डॉ. करन रावत जैसे वरिष्ठ डॉक्टर थे. वहीं जेआर-3 डॉ. संदीप राय, डॉ. वसीम, जेआर-2 डॉ. अभिषेक निगम, एनेस्थीसिया की डॉ. सुप्रिया और डॉ. अनामिका भी शामिल थीं.

10 नवंबर: लखनऊ आगरा वाराणसी कानपुर मेरठ में आज वायु प्रदूषण एक्यूआई लेवल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें