आगरा: फर्जी निकला नशीली दवा के सौदागर का पता, होगी सख्त कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: 15/08/2020 04:12 PM IST
  • पंजाब पुलिस की गिरफ्त में आए नशे के सौदागर का पता फर्जी निकल गया है. ड्रग विभाग के तरफ से उसके घर पर नोटिस भेजा गया था. लेकिन, वहां कोई नहीं होने के कारण नोटिस वापस ड्रग विभाग के पास ही आ गया. ड्रग विभाग उसके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सरकारी औपचारिकताएं पूरी कर रहा है.
फर्जी निकला नशीली दवा के सौदागर का पता, होगी सख्त कार्रवाई

आगरा. पंजाब पुलिस की गिरफ्त में आया नशे के सौदागर का पता फर्जी निकल गया है. ड्रग विभाग के तरफ से उसके घर पर नोटिस भेजा गया था, वहां कोई नहीं होने के कारण नोटिस वापस ड्रग विभाग के पास आ गया है. जांच के दौरान उसके बारे में पड़ोसियों से पूछताछ की गई. लेकिन,उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी. विभाग उसके खिलाफ कार्रवाई की औपचारिकताएं पूरी कर रहा है.

पुलिस को आगरा गैंग से पूछताछ में लाखन सिंह के बारे में पता चला. जय हनुमान फार्मा नाम से उसकी फर्म संजय प्लेस में बताया जा रहा है. पंजाब पुलिस से जानकारी मिलने के बाद औषधि विभाग ने उसकी फर्म पर छापा मारा था. बाद में उसे गोदाम बताया जाने लगा. गोदाम के मालिक ने बताया कि यह दुकान फरवरी महीने से ही खाली पड़ी है. लाखन सिंह के आधार कार्ड पर छपे पता पर जब जांच हुई तो पता चला कि आधार कार्ड पर छपा पता फर्जी है. विभाग का कहना है कि लाखन सिंह के खिलाफ मुकदमा दायर किया जाएगा.

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के नाम पर फर्जी तरीके से चंदा उगाही करने वाला गिरफ्तार

ड्रग विभाग ने जीएसटी विभाग से इस फर्म के संबंध में जानकारी मांगी थी. ड्रग विभाग इस संबंध में पंजाब पुलिस की गिरफ्त में आए विक्की अरोड़ा और लाखन सिंह की फर्मों के बारे में जानकारी मांगी थी. ड्रग विभाग खरीद-फरोख्त के बारे में जानकारी हासिल करना चाह रहा था. लेकिन, जीएसटी विभाग ने जानकारी नहीं दी। ड्रग विभाग को वापस पत्र भेज दिया गया.

इस मामले में औषधि निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि जीएसटी विभाग और लाखन सिंह के आवास के पतों से नोटिस वापस आ गए हैं. जीएसटी विभाग से खुद जाकर डेटा लाना होगा. जबकि कागजी खानापूर्ती करने के बाद जय हनुमान फॉर्मा के संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें