आगरा की सुंदरता बढ़ाने के लिए लगाए गए थे फव्वारे, लोकार्पण से पहले ही मोटरें चोरी

Somya Sri, Last updated: Wed, 8th Sep 2021, 2:10 PM IST
  • आगरा की सुंदरता बढ़ाने के लिए कई चौराहों पर फव्वारे लगाए गए थे. लेकिन चोरों ने फव्वारों के मोटर ही चुरा लिए. जिस वजह से फव्वारे बंद हो गए हैं. फव्वारों के लोकार्पण से पहले ही यह सब बंद पड़ गए.
सुदंरता बढ़ाने को लगाए गए थे फव्वारे (प्रतिकात्मक फोटो)

आगरा: आगरा से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. जहां आगरा की सुंदरता बढ़ाने के लिए कई चौराहों पर फव्वारे लगाए गए थे. लेकिन चोरों ने फव्वारों के मोटर ही चुरा लिए. जिस वजह से फव्वारे बंद हो गए हैं. गौर करने वाली बात यह है कि फव्वारों के लोकार्पण से पहले ही यह सब बंद पड़ गए. इस वजह से लोकार्पण की तारीख भी आगे बढ़ा दी गई है.

दरअसल आगरा प्रशासन ने आगरा शहर के तीन चौराहों दीवानी, रावली महादेव और कावेरी कुंज चौराहे पर एलईडी लाइटनिंग के साथ फव्वारे लगाए थे. जो महज 1 महीने ही चल सका. पिछले कई दिनों से इनका संचालन बंद हो चुका है क्योंकि फव्वारों पर पानी के लिए लगाए गए मोटर और पीतल के नोजल चोरी हो गए हैं. इसके अलावा भगवान टॉकीज चौराहे पर लगाए गए फव्वारे लोकार्पण से पहले ही चोरी कर लिए गए. इसलिये इस फव्वारे के लोकार्पण की तारीख आगे बढ़ा दी गई है.

सर्राफा बाजार 8 सितंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, आगरा, प्रयागराज, गोरखपुर में ऐसे बदली कीमतें

गौरतलब है कि आगरा नगर निगम ने शहर को सुंदर बनाने के लिए दस चौराहों पर रंगीन लाइटिंग के साथ फव्वारे लगाने का फैसला किया था. अब तक तीन चौराहों पर फव्वारे लगाए गए थे. लेकिन, एक महीने के अंदर ही इनके मोटर चोरी हो गए. अब ये फव्वारे बंद पड़े हैं.

मेयर नवीन जैन ने कहा कि वाटरवर्क्स चौराहा, कोठी मीना बाजार मैदान के सामने चौराहे पर फव्वारे बनकर तैयार हैं. चार अन्य जगहों पर फव्वारे लगाने के लिए टेंडर भी जारी हो चुके हैं, लेकिन पानी की मोटरें और पीतल के महंगे नोजल चोरी होने की घटनाओं के कारण सुंदरीकरण की योजना में बाधा आई है. आगरा मेयर नवीन जैन ने कहा कि, "फव्वारों को हमने बड़ी मेहनत से तैयार कराया था, लेकिन लगातार मोटरें चोरी हो रही है. भगवान टॉकीज पर लोकार्पण करने से पहले ही मोटर चोरी हो गई. जो लोग फव्वारों के पास रह रहे हैं, वह भी अपनी जिम्मेदारी समझें. कोई भी चोरी करता दिखे तो उसे रोकें और शिकायत करें."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें