आगरा

'मुझे मेरी पत्नी से बचाओ': कोरोना लॉकडाउन मर्दों के लिए भी बना जी का जंजाल

Smart News Team, Last updated: 15/06/2020 02:28 PM IST
  • लॉकडाउन में पतियों का हाल बेहाल है। जिले के महिला थानों और हेल्पलाइन में काफी संख्या में पुरुष अपनी पत्नियों से खुद को बचाने की गुहार लगा रहे हैं।
कोरोना लॉकडाउन में पतियों का हाल बेहाल।

आगरा. कोरोना लॉकडाउन में अपनी पत्नियों से परेशान पति खुद को बचाने की गुहार लगाते नजर आ रहे हैं। अनलॉक के दूसरे सप्ताह हेल्प लाइन और महिला थाना में पीड़ित पतियों की संख्या में भारी इजाफा देखने को मिला। शिकायतों में कहा जा रहा है कि उनकी पत्नियां सुसाइड करके उन्हें फंसाने की धमकी दे रही हैं। इनमें तीन मामले जिले की हाईप्रोफाइल फैमिली से भी हैं जिनका विवाह लॉकडाउन के दौरान ही हुआ है। इसके अलावा जिले के सभी थानों और पोस्टमार्टम की रिपोर्ट देखी जाएं तो पिछले सप्ताह 10 युवाओं ने गृहक्लेश की वजह से जान दी है।

जिले के कमलानगर निवासी एक कारोबारी के बेटे का आरोप है कि उसकी पत्नी का किसी और व्यक्ति से अफेयर है जिससे वह रातभर बात करती है। बीते 14 अप्रैल को ही उसका विवाह हुआ था। अब जब पति ने पूछा कि वह किससे बात कर रही है तो पत्नी ने मारपीट का आरोप लगाकर परिजनों को बुला लिया। उस समय तो मामला शांत हो गया लेकिन बाद में भी वह लगातार आत्महत्या की धमकी देती है।

जिले के विभव नगर निवासी शिक्षक ने लॉकडाउन में एक सरकारी शिक्षिका से शादी की। शिक्षिका का आरोप है कि शादी से पहले बताया गया कि पति सरकारी शिक्षक है। लेकिन वह किसी मैनेजमेंट स्कूल में छात्रों को पढ़ाता है। दूसरी ओर पति ने शिकायत में कहा है कि सबकुछ साफ करने के बाद ही शादी की गई है। पत्नी की ओर से झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। पत्नी के परिजनों को पहले से सारी जानकारी है।

वहीं शाहगंज निवासी एक इंजीनियर का आरोप है कि उसकी पत्नी को इंजीनियर बताकर लॉकडाउन में ही शादी करवा दी गई। बाद में सामने आया कि वह बारहवीं पास है। जब उन्होंने लड़की के परिजनों से बात की तो उन्होंने दहेज का मुकदमा दर्ज करने की धमकी दे डाली।

एसओ महिला थाना अलका सिंह ने कहा कि यह सही है कि पतियों की ओर से शिकायत हो रही है लेकिन मामले को पहले देखा जा रहा है। सत्यापन किया जा रहा है। काउंसलिंग करने के बाद कार्रवाई की जाएगी। पिछले सप्ताह में 5 केस पत्नियो के खिलाफ आए हैं।

 

अन्य खबरें