ताजनगरी के कैलाशपुरी मार्ग पर दिनदहाड़े पुलिस के साथ मुठभेड़, तीन बदमाश गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 10:06 PM IST
  • आगरा के कैलाशपुरी मार्ग पर बदमाशों को पकड़ने के लिए घेराबंदी कर रखी थी. पुलिस के पीछा करने पर बदमाशों ने पहले गोली चलाई जिस पर पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की.
आगरा में पुलिस के साथ बदमाशों ने दिनदिहाड़े मुठभेड़ की,

आगरा.  ताजनगरी में शुक्रवार की दोपहर कैलाशपुरी मार्ग पर उस समय अफरा-तफरी मच गई जब पुलिस ने गुरु ताल ओवर ब्रिज की तरफ से आ रही दो बाइक का पीछा करने लगी. कैलाशपुरी मार्ग पर पुलिस पहले से ही मौजूद थी. उनमें से कुछ पुलिसवालों ने वर्दी पहन रखी थी तो कुछ सादे कपड़ों में थे. जैसे ही बाइक सवार गुजरे पुलिस उनका पीछा करने लगी और मानसिक आयोग्यशाला के गेट के पास रोकने की कोशिश की. 

 पुलिस की एक गाड़ी ओवर टेक करके बाइक वालों से आगे निकल भी निकल गई. तभी बाइक पर पीछे की तरफ बैठे एक युवक ने गोली चलाना शुरू कर दिया. गोली की आवाज से सड़क पर अफरा-तफरी मच गई. पुलिसकर्मी गाड़ियों की आड़ में छिप गए. उन्होंने भी जवाबी फायरिंग शुरू कर दी. मौके पर ताबड़तोड़ करीब दस राउंड गोलियां चली. उधर, सड़क पर ट्रैफिक पूरी तरह रुक गया. लोग बीच सड़क यह देखकर सहम गए.

आगरा: बस हाईजैक मामले में तीन गिरफ्तार, मुख्य आरोपी को हुई जेल

लेकिन पुलिस घेराबंदी कि तीन युवकों को दबोचने में सफल रही. उनमें से एक के पैर में गोली भी लग गई जिससे एक बाइक पर सवार तीन बदमाश पकड़ लिए गए. पुलिस ने तीनों को एक गाड़ि में डाला और तेजी से वहां से निकल गई. पुलिस की एक गाड़ी मौके से भागे तीन बदमाशों के पीछे लग गई. हालांकि वे पकड़ में नहीं आ सके. इस घटनाक्रम के चलते काफी देर तक कैलाशपुरी मार्ग पर अफरा-तफरी का माहौल रहा. आशंका जताई जा रही है कि फरार तीन में दो बदमाशों को भी गोली लगी है. इसलिए पुलिस अस्पतालों में भी उनकी तलाश कर रही है.

आगरा: 1 सितंबर से ताजमहल और आगरा किला छोड़कर खोले जाएंगे सभी स्मारक

एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि मुठभेड़ में जख्मी बदमाश का नाम लोकेंद्र यादव है. वह सिकंदराराऊ का निवासी है. उसके साथ गांव वास मोहन सहाय, खंदौली निवासी वेदांत और जलेसर निवासी मनोज को पकड़ा गया है. आरोपियों के पास से एक पिस्टल, बाइक, तमंचा और कारतूस बरामद हुए हैं. लोकेंद्र को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वह पेशेवर बदमाश है. इससे पहले वह पेट्रोल पंप लूटकांड में जेल जा चुका है. फरार हुए बदमाशों मेें एक का नाम मोहन और दूसरे का मामा हैं. तीसरे बदमाश का नाम पकड़े गए बदमाशों को नहीं पता है. पुलिस अब उनकी तलाश में जुटी है.

लखनऊ, कानपुर, मेरठ, आगरा समेत यूपी के 11 जिलों में कोरोना संक्रमण का सीरो सर्वे

गिरफ्तार लोकेंद्र ने पुलिस को बताया कि उन्हें गुलाबपुर, पिलुआ (एटा) निवासी जय सिंह को लूटना था. जय सिंह उसका फुफेरा भाई है. टीपी नगर में वह अपनी गाड़ी की बॉडी बनवा रहा है. उसे मैकेनिक को साढ़े तीन लाख रुपये का भुगतान करना था. यह जानकारी उसे हो गई थी. इसलिए उसने साथियों के साथ लूट की योजना बनाई. वे पहले टीपी नगर रेकी करने गए थे. वहां जय सिंह नहीं मिला. कैलाशपुरी मार्ग पर उसे घेरने की योजना थी और लूट के बाद वे एटा भाग जाते. जय सिंह उसे पहचानता है इसलिए उन्होंने हेलमेट भी लगा रखा था.

कानपुर: योगिता हत्याकांड में बेटे विवेक की गिरफ्तारी के बाद घर में कैद हुई मां

इस मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच प्रभारी इंस्पेक्टर कमलेश सिंह, एसओजी प्रभारी कुलदीप दीक्षित, इंस्पेक्टर हरीपर्वत अजय कौशल सहित करीब एक दर्जन पुलिस कर्मी शामिल थे. पुलिस को सर्विलांस से इन लोगों का  इनपुट मिला था. जिसमें बताया गया था कि कैलाशपुरी मार्ग पर कोई लूट होने वाली है. इसलिए पुलिस पहले ही बदमाशों की घेराबंदी के लिए वहां पहुंची थी. हालांकि पुलिस पहले से बदमाशों को पहचानती नहीं थी. इसी दौरान दो बाइक पर छह युवक पुलिस को तेजी से जाते दिखे जिससे पुलिस कर्मियों को शक हुआ. चेकिंग के लिए उन्हें रोकने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं रुके. इस पर पुलिस ने पीछा किया तब बदमाशों ने पहले गोलियां चलाना शुरू कर दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें