आगरा: कलयुग के श्रवण कुमार, 101 वर्षीय बूढ़ी मां को कराई तीर्थयात्रा

Smart News Team, Last updated: 08/10/2020 10:23 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के आगरा में इस कलयुग के दौर में भी श्रवण कुमार सामने आए हैं, जिन्होंने अपनी 101 वर्षीय बूढ़ी मां को चारपाई की डोली में बिठाकर तीर्थयात्रा कराई.
आगरा: कलयुग के श्रवण कुमार, 101 वर्षीय बूढ़ी मां को कराई तीर्थयात्रा 

उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित नौहझील क्षेत्र के गांव फरीदमपुर निवासी जुगेंद्र सिंह और ज्वाला प्रसाद अपनी 101 वर्षीय बूढ़ी मां के लिए कलयुग के श्रवण कुमार साबित हुए हैं. दरअसल, उन्होंने अपनी बूढ़ी मां इंद्रवती देवी को चारपाई पर, बैठाकर उसे कंधों से उठाकर ब्रज चौरासी कोस की परिक्रमा कराई है. इस बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि उनकी मां की इच्छा थी कि वह पूरे परिवार के सदस्यों के साथ ब्रज चौरासी कोस की परिक्रमा लगाएं.

बंदरों की लड़ाई में दो मंजिला मकान की दीवार भरभरा कर गिरी, दो की मौत

बताया जा रहा है कि इंद्रवती देवी को उठने-बैठने में दिक्कत होती है. इसलिए बेटों ने चारपाई की डोली तैयार करी और उस पर मां को बैठाकर पूरे परिवार के साथ चार अक्तूबर को मथुरा से परिक्रमा शुरू कर दी. इंद्रवती के पुत्र जुगेंद्र सिंह ने बताया कि उन लोगों ने मां को रास्ते में आने वाले ब्रज के तीर्थ स्थलों के दर्शन भी कराए. मां की इच्छा के मुताबिक उनके साथ बहू श्यामवती देवी, बेटी नत्थो देवी, पोता चंद्रपाल सिंह, देव चौधरी, भगत सिंह, सतीश सिंह, पौत्री प्रीति चौधरी सहित 10 लोगों ने परिक्रमा लगाई.

मंगलवार को सौंख पहुंचने पर ज्वाला प्रसाद ने बताया कि दोनों भाई दो बार ब्रज चौरासी कोस की परिक्रमा लगा चुके हैं. लेकिन, मां के कहे अनुसार पूरे परिवार के साथ वह पहली बार यहां आए. इस काम को लेकर पूरे क्षेत्र में लोग इन बेटों की सराहना में लगे हुए हैं. वहीं, मां ने भी अपने श्रवण कुमार को हाथ उठाकर खूब आशीर्वाद दिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें