आगरा

अस्पताल में नहीं रहना चाहते कोरोना मरीज, होम आइसोलेशन को लग रही बंपर सिफारिशें

Smart News Team, Last updated: 02/08/2020 04:56 PM IST
  • आगरा में काफी संख्या में कोरोना वायरस से संक्रमित लोग होम आइसोलेशन की मांग कर रहे हैं. इसके लिए अच्छी से अच्छी और बड़ी से बड़ी सिफारिशें भी लगावाई जा रही है.
कोरोना मरीज अब सिफारिश लगवा रहे हैं कि उन्हें होम आइसोलेशन दिया जाए.

आगरा. कोरोना वायरस से संक्रमित लोग अब आगरा में अस्पताल में नहीं भर्ती होना चाहते हैं. जब से सरकार ने होम आइसोलेशन की इजाजत दी है तबसे अधिकतर मरीज और उसके घरवालों की इच्छा घर पर ही इलाज की है. काफी संख्या में ऐसे लोग ऊपर से सिफारिशें भी लगवा रहे हैं. सबको होम आइसोलेशन की मांग है.

ताजनगरी के कमला नगर इलाके में एक परिवार के चार लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ गए जिसमें दो बुजुर्ग माता-पिता के अलावा बेटा और बहू शामिल हैं. अब आइसोलेशन सेंटर जाने को बेटा और बहू तो तैयार हो गए लेकिन माता-पिता को होम आइसोलेशन में रहने देने के लिए कई जनप्रतिनिधियों से सिफारिश लगवाई गई.

आगरा: शराब को नहीं थे पैसे, बड़ी बेरहमी से रिक्शा चालक को मार डाला

वहीं आगरा के फतेहाबाद में एक व्यक्ति संक्रमित मिले. इलाज के लिए उन्होंने होम आइसोलेशन की मांग की लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने मना कर दिया. लेकिन बाद में संक्रमित व्यक्ति ने कई नेताओं से सिफारिश लगवाई और अधिकारियों से बात कर होम आइसोलेशन में रहने दिया जाने के लिए कहा.

ये तो सिर्फ दो केस हैं. काफी संख्या में संक्रमित होम आइसोलेट होने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के पास सोर्स लगा रहे हैं. इनमें अधिक सिफारिशें ग्रामीण क्षेत्रों की देखी गई हैं. इन्हें समझाया भी जा रहा है कि संक्रमित मरीज को मानकों के अनुरूप ही होम आइसोलेशन में रखा जाएगा. इसके बिना इजाजत नहीं है. होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज का कमरा अलग से होना चाहिए और टॉयलेट भी अलग हो.

आगरा: कोरोना से मौत का आंकड़ा 100 पार, जुकाम-खांसी OPD में सबसे ज्यादा संक्रमित

वहीं होम आइसोलेशन के दौरान थर्मामीटर से सुबह-शाम तापमान लेकर कंट्रोल एंड कमांड सेंटर को बताना होता है. मरीज की देखभाल के लिए एक व्यक्ति मकान में रहना जरूरी है. साथ ही मरीज के पास ग्लब्ज और स्वास्थ्य विभाग की दवाओं को नियमानुसार लेना बहुत जरूरी है.

अन्य खबरें