प्रदूषण के मामले में आगरा ने छोड़ा दिल्ली को पीछे, एक्यूआई 302 के पार

Smart News Team, Last updated: 21/11/2020 10:24 PM IST
  • आगरा में प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ गया है कि जिले ने इस मामले में दिल्ली को भी पछाड़ दिया है और देश के सबसे प्रदूषित जिले में 10वें नंबर पर आ गया है. रिपोर्ट के मुताबिक आगरा में वायु गुणवत्ता सूचकांक 302 रहा है.
आगरा में लगातार बढ़ रहा प्रदूषण

आगरा: आगरा में प्रदूषण की स्थिति धीरे-धीरे पहले जैसी होती जा रही है. पांच दिन जहां आगरावासियों को प्रदूषण से राहत मिली तो वहीं एक बार फिर वह जिले में प्रदूषण की समस्या झेल रहे हैं. इतना ही नहीं, आगरा में प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ गया है कि जिले ने इस मामले में दिल्ली को भी पछाड़ दिया है और देश के सबसे प्रदूषित जिले में 10वें नंबर पर आ गया है. रिपोर्ट के मुताबिक आगरा में वायु गुणवत्ता सूचकांक 302 रहा है.

उत्तर प्रदेश में जहां आगरा छठवां सबसे प्रदूषित जिला रहा तो वहीं देश में यह 10वें नंबर पर रहा. बीते शुक्रवार को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की और से आगरा में प्रदूषण को लेकर सूची भी जारी की गई थी, जिसमें यहां का एक्यूआई लेवल 302 दर्ज किया गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी किए गए एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार यहां मानक से 37 गुना ज्यादा कार्बन मोनोक्साइड की मात्रा है जो रात 11 बजे सर्वाधिक रही, वहीं सुबह 5 से 9 बजे तक और शाम को 7 से 8 बजे के बीच सबसे ज्यादा कार्बन मोनोक्साइड संजय प्लेस स्थित ऑटोमेटिक स्टेशन पर दर्ज की गई.

आगराः बदमाश ने डॉक्टर का किया मर्डर तो भाई-बहन ने मरने का ड्रामा कर बचाई जान

आगरा में बेहद सूक्ष्म कण यानी पीएम 2.5 की मात्रा सामान्य से छह गुना ज्यादा रही, जो शाम 7 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक 300 के पार पहुंच गई. वहीं, सुबह 8 बजे से लेकर 12 बजे तक धूल कण भी अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गए थे. आगरा में अल्लाबख्श चौराहा सबसे ज्यादा प्रदूषित क्षेत्र बना रहा. यहां प्रदूषण की मात्रा करीब 465 दर्ज की गई. इसके साथ ही आगरा फोर्ट स्टेशन, ईदगाह चौराहा, आईएसबीटी और विभव नगर भी आगरा में सबसे प्रदूषित क्षेत्र रहे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें