आगरा: कोरोना काल में मुहर्रम की सातवीं तारीख को नहीं निकलेगा इमामबाड़ा से जुलूस

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 08:27 PM IST
  • कोरोना वायरस का असर इस साल सभी त्यौहारों पर दिख रहा है. अब आगरा में इस बार कोरोना की वजह से मुहर्रम की सातवीं तारीख तो इमामबाड़ा से जुलूस नहीं निकलेगा.
कोरोना काल में मुहर्रम की सातवीं तारीख को नहीं निकलेगा इमामबाड़ा से जुलूस.

आगरा. कोरोना वायरस की वजह से मोहर्रम की सात तारीख को अंजुमन-ए-पंजतनी शाहगंज आगरा से परंपरागत रूप से पुराना इमामबाड़ा शाहगंज आगरा से निकाला जाने वाला अलम का जुलूस इस वर्ष नहीं निकाला जाएगा. बता दें कि 20 अगस्त को चांद देखकर मोहर्रम शुरू हुआ था. लेकिन हर बार की तरह इस बार चहल-पहल नहीं रही. लोगों को घरों में रहकर ही इबादत करने की गुजारिश धर्म गुरु कर रहे हैं. वहीं, सरकार ने भी दिशानिर्देश जारी कर लोगों से भीड़ ना लगाने की अपील की और घरों में रहकर ही त्यौहार मनाने को कहा गया.

डॉक्टर योगिता गौतम मर्डर केस: हत्यारोपी डॉक्टर विवेक तिवारी की गन बरामद

अंजुमन-ए-पंजतनी आगरा के प्रवक्ता एड. अमीर अहमद ने बताया कि मोहर्रम की सात तारीख को हर वर्ष यह जुलूस बड़ी शान के साथ निकाला जाता था. जुलूस शाहगंज चौराहा, लोहामंडी, मुहल्ला कुरैशियान, चिल्लीपाड़ा होता हुआ पुराना इमामबाड़ा चिल्लीपाड़ा पर जाकर समाप्त होता था. इस जुलूस में काफी संख्या में अकीदतमंद शिरकत करते थे. जो नौहाख्वानी, सीनाजनी व जंजीरजनी यानी छुरियों का मातम करते थे. लेकिन इस वर्ष जुलूस न निकलने से अकीदतमंद बेहद हताश व मायूस हैं और इस महामारी से मानवता की रक्षा के लिये सरकार के दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं और दुआ कर रहे हैं कि जल्द इस महामारी से निजात मिले.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें