कोख के सौदागर का मास्टरमाइंड बेनकाब, नीलम-अस्मिता नहीं, यह है गैंग का असली सरगना

Smart News Team, Last updated: 16/07/2020 09:56 AM IST
  • कोख के सौदागर गैंग का पुलिस जल्द ही पर्दाफाश कर लेगी। पुलिस को पूछताछ में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। कोख के सौदागर गैंग की सरगना न तो नीलम है और न ही अस्मिता है। वे दोनों तो इस गैंग की एक कड़ी मात्र हैं।
कोख के सौदागर गैंग की सदस्य नीलम।

कोख के सौदागर गैंग का पुलिस जल्द ही पर्दाफाश कर लेगी। पुलिस को पूछताछ में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। कोख के सौदागर गैंग की सरगना न तो नीलम है और न ही अस्मिता है। वे दोनों तो इस गैंग की एक कड़ी मात्र हैं। कोख के सौदागर गैंग का असली सरगना तो अस्मिता का पति डॉक्टर विष्णुकांत है। आरोपी सरगना डॉक्टर विष्णुकांत ने कई साल दिल्ली में प्रेक्टिस की है और उसके बाद तीन साल पहले ही उसने नेपाल में क्लीनिक खोला था। अस्मिता सालों से उसके साथ है। बाद में दोनों ने शादी कर ली थी। उनका बेटा भी इसी धंधे में लिप्त बताया जा रहा है। रिमांड पर लिए राहुल आनंद सारस्वत से पूछताछ में यह जानकारी मिली है। पुलिस उसे नोएडा से वापस ले आई थी। अब सिलीगुड़ी गई है। वहां दो नवजात बच्चे बरामद करने हैं।

दरअस, आगरा के फतेहाबाद क्षेत्र में 19 जुलाई को कोख के सौदागर गैंग से जुड़ी नीलम, रूबी समेत पांच लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। इनके पास से तीन नवजात बच्चियां बरामद हुईं थीं। आठ जुलाई को नीलम और गैंग की कथित सरगना अस्मिता के बीच की कड़ी राहुल को गिरफ्तार कर लिया गया। वह फरीदाबाद में सरोगेट मदर से पैदा हुए नवजात को सिलीगुड़ी में देकर आया था। पुलिस ने पहले नीलम को रिमांड पर लिया था। उसके बाद राहुल को रिमांड पर लिया है। मंगलवार को पुलिस उसे नोएडा और फरीदाबाद लेकर गई थी।

आगरा: कोख के सौदागरों पर कसने लगा शिकंजा, सरगना नीलम के कैरियर को पुलिस ने दबोचा

एसपी देहात पूर्वी प्रमोद कुमार ने बताया कि नेपाल पुलिस भी संपर्क में आ गई है। वहां से भी कुछ जानकारियां मिल रही हैं। अस्मिता इस खेल में अकेली शामिल नहीं है। मास्टरमाइंड का उसका पति डॉक्टर विष्णुकांत है। विष्णुकांत मूलत: कर्नाटक का निवासी है। उसने कई साल पहले दिल्ली में सेरोगेसी का काम शुरू किया। उस समय विदेशियों के लिए सेरोगेसी कानूनन अपराध नहीं थी। बाद में यह विदेशियों के लिए कानूनन अपराध हो गई। 

बता दें कि भारतीय निसंतान दंपति के लिए सेरोगेसी अभी भी कानूनन अपराध नहीं है। भारत के लोग सेरोगेट चाइल्ड का इतनी रकम नहीं देंगे। इसलिए गैंग को दूसरे देशों के लोगों के लिए बच्चे चाहिए होते हैं। 

कोख के सौदागर गैंग का जल्द होगा पर्दाफाश? राहुल को रिमांड पर लेकर नोएडा गई पुलिस

डॉक्टर विष्णु ने नेपाल में अपना क्लीनिक खोला था। सिलीगुड़ी में भी उसके कनेक्शन हैं। अस्मिता सेरोगेसी के लिए तैयार महिलाओं से बात किया करती थी। गैंग के लिए काम करने वाली महिलाओं के संपर्क में रहती थी। गर्भधारण से लेकर डिलीवरी की जिम्मेदारी डॉक्टर विष्णु की रहती थी। संयोग से इस गिरोह का पुलिस को सुराग मिल गया। आगरा में कार्रवाई के बाद डॉक्टर विष्णु परिवार सहित नेपाल से भी गायब हो गया है। आशंका है कि वह कर्नाटका में है। नेपाल पुलिस ने अस्मिता की कॉल डिटेल निकाली थी। उसकी बातचीत कुवैत, अमेरिका आदि देशों के लोगों से ज्यादा होती है। इससे पुलिस अंदाजा लगा रही है कि अस्मिता का नेटवर्क विदेशों में फैला हुआ है। इसलिए वहां के लोग सेरागेट मदर के लिए उससे संपर्क करते हैं।

 

अन्य खबरें