दीदार के लिए और करना होगा इंतजार? क्योंकि ताजमहल के खुलने पर फंस गया है यह पेच

Smart News Team, Last updated: 04/07/2020 10:27 AM IST
  • ताजमहल के खुलने पर पेच फंस गया है। कंटेनमेंट जोन आड़े आ रहे हैं। साथ ही बफर जोन भी इसके खुलने में रोड़ा बन सकते हैं।
ताजमहल की फाइल फोटो

ताजमहल के खुलने पर पेच फंस गया है। कंटेनमेंट जोन आड़े आ रहे हैं। साथ ही बफर जोन भी इसके खुलने में रोड़ा बन सकते हैं। डीएम ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। सुरक्षा के सभी पहुलओं पर मंथन हो रहा है। वहीं एएसआई की ओर से गाइड लाइन जारी कर दी गई है कि यदि छह जुलाई से ताजमहल खुलेगा तो सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के बाद ही खोला जाए।

केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह ने गुरुवार को ट्वीट कर संरक्षित स्मारकों को खोले जाने के लिए कहा था। साथ ही उन्होंने गेंद राज्य सरकार और जिला प्रशासन के पाले में ये कहकर डाल दी थी कि वहां की परिस्थितियों को देखकर स्मारक खोले जाएं। उन्होंने ये भी साफ कर दिया था कि कंटेनमेंट जोन में आने वाले स्मारक न खोले जाएं।

इस संबंध में ‘हिन्दुस्तान’ ने ताजमहल को खोले जाने के संबंध में फिर से जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह का पक्ष जाना। इस पर जिलाधिकारी ने बताया कि ताजमहल, आगरा किला और फतेहपुरसीकरी को खोले जाने के संबंध में अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। वह अभी स्मारक के आसपास के इलाकों का अध्ययन कर रहे हैं। उनका कहना है कि कोई जल्दबाजी नहीं है। पहले पूरी तरह से संतुष्ट हो जाएंगे। उसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।

जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने कहा कि हमारी प्राथमिकता कोविड-19 है। वर्तमान समय चुनौतीभरा भी है। ताज के आसपास कुछ कंटेनमेंट जोन अभी हैं। इसलिए पूरी तरह से सारी बातें देख सुनकर ही कोई निर्णय लेंगे।

अगर ताज खुला तो एएसआई की ये है गाइडलाइन

- ताज, किला, फतेहपुरसीकरी को दो स्लॉट में बांटा गया है

- ताजमहल में दोनों स्लॉटों में दीदार करने वालों की संख्या 2500-2500 यानी कुल पांच हजार होगी।

- आगरा किला में एक स्लॉट में 1200 तथा दूसरे स्लॉट में 1300 लोग ही जा पाएंगे।

- फतेहपुरसीकरी में दोनों स्लॉटों में दीदार करने वालों की संख्या एक-एक हजार यानी दो हजार ही होगी।

- नॉन कंटेनमेंट जोन में ही स्मारक खोले जा सकेंगे।

- स्मारकों की टिकट आनलाइन ही मिलेगी।

-पार्किंग और कैफेट एरिया में भुगतान डिजिटल ही होगा।

- स्मारकों में वनवे व्यवस्था लागू होगी।

- किसी भी प्वांइट पर भीड़ एकत्र नहीं होगी।

- ग्रुप फोटो नहीं कराई जा सकेगी।

- लाससेंसधारी गाइड और फोटोग्राफर ही स्मारक में रहेंगे।

- खाने का सामान स्मारक परिसर में प्रतिबंधित होगा।

- कैफेट एरिया से पीने के पानी की बोतल डिजिटल मोड में भुगतान कर ली जा सकेगी।

अन्य खबरें