आगरा पारस अस्पताल केस: पढ़ें मरीज की वायरल चैट, कहा- ऑक्सीजन बंद करके मारने की प्लानिंग

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Jun 2021, 8:56 AM IST
  • आगरा के पारस अस्पताल में ऑक्सीजन बंद करके मॉक ड्रिल करने का मामला अभी ठंडा नहीं हुआ है. इस बीच इसी अस्पताल की एक मृतक महिला मरीज की चैट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहीं है, जिसमें वह ऑक्सीजन बंद करके मारने की प्लानिंग की बात कर रही थी.  
पारस अस्तपाल(फाइल फोटो)

आगरा. आगरा में एक मृतक महिला मरीज की कथित व्हाट्सएप चैट की तीन स्क्रीन शॉट वायरल होने के बाद यह खुलासा हुआ है कि श्रीपारस अस्पताल में 26 और 27 अप्रैल की रात में सब कुछ ठीक नहीं था. अपने परिजनों संग किए गए व्हाट्सएप चैट में महिला ने ऑक्सीजन के लिए टॉर्चर करने से लेकर ऑक्सीजन बंद करके मारने की प्लानिंग की बात लिखी थी.

15 अप्रैल को राजामंडी निवासी राधिका अग्रवाल आगरा के श्रीपारस अस्पताल में भर्ती हुई थीं. वह कोरोना से पीड़ित थीं. 27 अप्रैल को उनकी मौत हो गई. पति सौरभ अग्रवाल ने बताया कि पत्नी को भर्ती कराने के दौरान अस्पताल संचालक डॉ. अरिंजय जैन ने तीन लाख रुपये जमा कराए. इसके बाद भी लापरवाही बरती गई. डॉ. जैन से शिकायत से गई, लेकिन उन्होंने कोई सुनवाई नहीं की.

प्यार के वादे कर पहले धर्म परिवर्तन, प्रेमिका के पैसे खत्म तो प्रेमी ने की दूसरी शादी

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे कथित स्क्रीन शॉट 16 से लेकर 26 अप्रैल के बीच के हैं. एक चैट में राधिका परिजनों से कह रही हैं, "यहां मारने की प्लानिंग चल रही है. ये सब झूठे हैं. ऑक्सीजन बार-बार बंद कर देते हैं. रात भर ऑक्सीजन के लिए टार्चर किया. जान निकल गए मेरी. सब के साथ यही हो रहा है. टेक मी समवेयर एल्स प्लीज..." इस पर परिजन राधिका को आश्ववस्त कर रहे हैं कि सब कुछ ठीक हो जाएगा. हिम्मत से काम ले.

16 अप्रैल की राधिका की परिजनों के साथ व्हाट्सएप चैट.
26 अप्रैल की राधिका की परिजनों के साथ व्हाट्सएप चैट.

 

पति सौरभ अग्रवाल ने कहा कि अस्पताल के संचालक का वीडियो वायरल होने के बाद स्पष्ट हो गया है कि उनकी पत्नी की हत्या हुई है. श्रीपारस अस्पताल के खिलाफ सौरभ अग्रवाल की थाना न्यू आगरा में तहरीर नहीं ली गई. उन्हें एसडीएम सिटी कार्यालय में शिकायत दर्ज कराने को कहा गया है. सोरभ ने बताया कि अब वह अदालत से केस दर्ज कराएंगे.

मंगेतर की भाभी ने फोन पर बनाईं बातें, लड़की सगाई के बाद गहने-कैश लेकर फरार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें