मिलावटी इंजन ऑयल कारोबार का भंडाफोड़, 4 गोदाम पकड़े, 5 आरोपियों पर केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 02:36 AM IST
  • आगरा शहर में धड़ल्ले से इंजन ऑयल का काला कराबोर करने वालों में खलबली मच गई है. दरअसल छत्ता पुलिस ने मिलावटी इंजन ऑयल के 4 गोदाम पकड़े हैं. साथ ही 5 आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है और 24 आरोपियों के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया है.
आगरा की छत्ता पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मिलावटी इंजन ऑयल के चार गोदाम को पकड़ा है

आगरा: मिलावटी इंजन ऑयल का काला कारोबार करने वालों में खलबली मची हुई है. छत्ता पुलिस ने बुधवार की रात जीनखाना और हकीमा गली में दबिश देकर चार और गोदाम पकड़े. गोदामों में लाखों रुपये का माल भरा हुआ था. पूरा माल सीज किया गया है. छानबीन में पता चला कि गोदाम पुराने मुकदमों में वांछित चल रहे आरोपियों के ही हैं. पुलिस ने छत्ता थाने में एक और मुकदमा लिखा है. इस मुकदमे में पांच आरोपियों को नामजद किया गया है.

सीओ छत्ता विकास जायसवाल ने बताया कि पुलिस को पूर्व में दर्ज मुकदमों के वांछितों की तलाश है. गिरफ्तारी के लिए इंस्पेक्टर छत्ता सुनील दत्त ने फोर्स के साथ जीनखाना में दबिश दी थी. वहां आरोपित तो मिले नहीं. मिलावटी इंजन ऑयल के चार और गोदाम मिल गए. इन गोदामों में भी लाखों रुपये का माल भरा हुआ था. छानबीन में पता चला कि पहले गोदाम घनी आबादी क्षेत्र में ही हुआ करते थे. काला कारोबार करने वालों ने अपना धंधा बहुत फैला लिया. आगरा के अलावा दूसरे प्रदेशों में भी माल भेजने लगे. इसलिए फैक्टरी खोल ली. बड़े-बड़े गोदाम बनाए. जीनखाना इलाके में इतने बड़े गोदाम बनाना संभव नहीं था. पुलिस ने रात में जो गोदाम पकड़े पहले यहां से ही मिलावटी ऑयल का कारोबार हुआ करता था.

इंस्पेक्टर छत्ता ने अपनी तरफ से एक मुकदमा लिखाया है. धोखाधड़ी, कापी राइड और ट्रेड मार्क एक्ट के तहत दर्ज मुकदमे में बतिया उर्फ कयूम, नदीम, हाजी मैनाज, शारिक व रहीश नामजद हैं. तीन आरोपी जीनखाना क्षेत्र के निवासी हैं. दो हकीमा गली में रहते हैं. इनके खिलाफ पहले से भी मुकदमे दर्ज हैं. गोदाम में मिले माल को जब्त करके छत्ता थाने लाया गया. उसे सील किया गया है.

24 आरोपियों के गैर जमानती वारंट जारी

पुलिस ने तय कर लिया है कि मिलावटी इंजन ऑयल के काले कारोबार को जड़ से खत्म करना है. छत्ता थाने में पहले से दर्ज मुकदमे में फरार चल रहे 24 आरोपियों के गैर जमानती वारंट जारी कराए गए हैं. पुलिस ने बताया कि एनबीडब्ल्यू के पीछे मकसद कुर्की की कार्रवाई की तरफ आगे बढ़ना है. कुछ दिन बाद पुलिस कुर्की नोटिस के लिए कोर्ट में प्रार्थना पत्र देगी. आरोपियों को भगोड़ा घोषित किया जाएगा. उन पर इनाम घोषित होगा. आरोपित आखिर पुलिस से बचकर कहां जाएंगे. उनके घर परिवार से आगरा में ही हैं. पुलिस कुर्की करेगी. पुलिस का मानना है कि इसी तरह दबाव बनाया गया तो आरोपित समर्पण कर देंगे.

हाथरस DM के पीड़ित परिवार को धमकाने से भड़के लोग, जयपुर में घर पर कचड़ा फेंका

नासिर, बतिया, सन्नो, बारी भाई, वसीम, सलमान, मोनू उर्फ हाजी अतीक, छोटू, आजाद, शानू, शनी कुरैशी, गुलाटी उर्फ जावेद, नदीम, साबिर, वसीम, नीरज, चीन चाचा, जीशान, सादाब, मेहराज, रिंकू, हाजी समीम के गैर जमानती वारंट जारी हुए हैं. दो को छोड़कर शेष आरोपित छत्ता क्षेत्र के निवासी हैं. कोई जीनखाना का रहने वाला है तो कोई पंजा मदरसा, गुलाबखाना, सिंगी गली, हाकीमा गली का निवासी है. एक आरोपित मंटोला तथा एक अन्य कोतवाली क्षेत्र का निवासी है. सभी की तलाश की जा रही है.

डॉ दीप्ति अग्रवाल दहेज मृत्यु केस: हाईकोर्ट से ससुरालीजनों को मिली अंतरिम जमानत

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें