आगरा: पुष्पा हत्याकांड में पुलिस का खुलासा, प्रेमी ने ही गला दबाकर कर दी हत्या

Smart News Team, Last updated: 08/09/2020 11:23 AM IST
  • पुलिस ने आगरा के पुष्पा हत्याकांड का खुलासा कर दिया है. पुलिस ने बताया कि महिला के प्रेमी और उसके छोटे भाई ने मिलकर ही घर में महिला की हत्या कर दी.
पुष्पा हत्याकांड में हत्यारोपी

आगरा. आगरा के विद्या नगर के पुष्पा हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा किया है. पुलिस ने बताया कि हत्याकांड को अंजाम देने में प्रेमी ने महिला के पैर पकड़े थे और उसके छोटे भाई ने दुपट्टे से गला दबाया था. हत्या को अंजाम देने के बाद प्रेमी का बड़ा भाई वहां से फरारा हो गया था. वहीं प्रेमी अपने काम पर चला गया था. फिर पुलिस के पूछने पर बीमारी से मौत बताकर गुमराह करने की कोशिश करता रहा. पुलिस ने हत्या में आरोपी मुकेश और राजपाल को पकड़ लिया है और दोनों को जेल भेज दिया गया है.

आगरा: केमिकल फैक्ट्री की आग देख सहमे आस पास के लोग, फायरब्रिगेड ने संभाला मोर्चा

इस मामले में एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि छह सितंबर को एक महिला का शव घर में मिलने की सूचना पुलिस को मिली. उसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो शव घर में चारपाई पर पड़ा था. महिला की जीभ बाहर निकल रही थी. पूछताछ में मोहल्ले वालों ने बताया कि महिला का नाम पुष्पा है. इसके कुछ ही देर बाद महिला का कथित पति मुकेश भी मौके पर आ गया. उसने बताया कि वह काम पर गया था. वहीं मुकेश का भाई राजपाल गायब था. पहली नजर में पुलिस को लगा कि घर से गायब राजपाल ने हत्या की होगी. संभव है वह महिला पर बुरी नजर रखता होगा. पुलिस पूछताछ में मौके पर मुकेश ने यह बताया कि उसकी पत्नी बीमार रहती थी. इस बात पर पुलिस को मौके पर ही शक हो गया था. दरअसल मुकेश और महिला की उम्र में काफी अंतर था. मुकेश महिला से करीब 10 साल छोटा था.

पोस्टर लेकर सरेंडर करने पहुंचे आगरा बस हाइजैक के आरोपी, लिखा- पकड़ ले पुलिस

घटना के बाद मामले में इंस्पेक्टर एत्मादुद्दौला उदयवीर मलिक ने जांच शुरू की. पुलिस को इस मामले में बल्देव के गांव कननाऊ से कुछ सुराग मिले. यह मुकेश का गांव है. उस गांव से पता चला कि मुकेश पांच साल पहले किसी महिला को लेकर भाग गया था. महिला बल्देव के गांव सहीराम की गढ़ी की निवासी थी. महिला का मायका बिचपुरी में था. इस जानकारी के आधार पर पुलिस ने गांव सहीराम की गढ़ी में संपर्क किया और पुष्पा का घर खोज निकाला. वहां उसके छोटे बेटे सूरज से संपर्क किया. वह पलवल में हलवाई का काम करता है. बेटे ने पुलिस को बताया कि वे चार भाई-बहन हैं. मां को प्रेमजाल में फंसाकर मुकेश गांव से भगा ले गया था. उन्होंने तलाश की मगर वह नहीं मिली. 

खत्म हुआ इंतजार, 21 सितंबर से खुलेगा ताज महल और आगरा किला

फिर मामले में सूरज ने हत्या का मुकदमा दर्ज कराया. मुकेश के साथ राजपाल को भी नामजद किया गया. पुलिस ने राजपाल को पकड़ लिया. उससे पूछताछ हुई तो उसने सारा राज उगल दिया. राजपाल ने बताया कि मुकेश ने ही पुष्पा को रास्ते से हटाने की योजना बनाई थी. वह कहता था कि जो अपने बच्चों को छोड़कर आ सकती है वह उसकी सगी कैसे हो सकती है. मुकेश को शक था कि पुष्पा के दूसरे लोगों से संबंध हैं इसलिए उन्होंने मिलकर उसे मार डाला.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें