आगरा में निजी अस्पताल छुपा रहे डेंगू-मलेरिया के मरीज, सीएमओ बोले- महामारी एक्ट में होगी कार्रवाई

Nawab Ali, Last updated: Tue, 7th Sep 2021, 7:04 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के आगरा में निजी अस्पताल डेंगू और मलेरिया के मरीजों के मामले छुपाने का खुलासा हुआ है. निजी लैब में प्राइवेट अस्पताल जमकर रैपिड टेस्ट करा रहे हैं जिससे यह खुलासा हुआ है. सीएमओ आगरा का कहना है कि ऐसा करने वाले अस्पतालों के खिलाफ महामारी एक्ट में कार्रवाई की जाएगी.
आगरा में निजी अस्पताल छुपा रहे मरीजों के आंकड़े. (फाइल फोटो)

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में मलेरिया, वायरल बुखार और डेंगू बुखार ने कहर बरपाया हुआ है. अस्पतालों में बड़ी तादाद में मलेरिया डेंगू और वायरल बुखार के मरीज भर्ती हो रहे हैं. लेकिन इस दौरान निजी अस्पतालों में इन मरीजों के आंकड़े छुपाये जाने का खुलासा हुआ है. निजी अप्सतल प्राइवेट लैब में जमकर रैपिड टेस्ट करा रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य विभाग से जानकारी छुपा रहे हैं. प्राइवेट लैब में जांच के लिए आने वाली रिपोर्ट के आधार पर यह खुलासा हुआ है. लेकिन अब जिला स्वास्थ्य प्रशासन सतर्क हो गया है.

आगरा सीएमओ अरुण कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि जो भी निजी अस्पताल मलेरिया, डेंगू बुखार और वायरल बुखार के मरीजों का आंकड़ा छुपा रहे हैं उनके खिलाफ महामारी एक्ट में कार्रवाई की जाएगी. सीएमओ ने सभी प्राइवेट अस्पतालों की चेतावनी जारी कर दी है. आगरा जिला स्वास्थ्य प्रशासन ने 1 सितंबर से आदेश जारी किया था की सभी निजी अस्पताल अपने यहां भर्ती होने वाले मरीजों की हर रोज रिपोर्ट भेजेंगे लेकिन आदेश का पालन करते हुए कुछ ही अस्पतालों ने रिपोर्ट भेजी है. अब मरीजों का आंकड़ा छुपाने वाले प्राइवेट अस्पतालों पर महामारी एक्ट में कार्रवाई की जाएगी. 

आगरा: राजकीय शिक्षक संघ ने मनचाहे शिक्षकों को सम्मानित करने का लगाया आरोप

सीएमओ अरुण कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि एक लिंक जारी किया गे था जिसमें प्राइवेट अस्पतालों को पानी जानकारी हर रोज अपडेट करनी होगी इसके लिए आईएमए के अधिकारीयों को भी निर्देश जारी किये गए थे. हमारा मकसद है कि इन आंकड़ों के हिसाब से स्वास्थ्य विभाग को जानकारी होने पर आगे की रणनीति बन पायेगी. क्योंकि कई बार मरीजों की संख्या बढ़ने के कारण संसाधन विकसित करने पड़ते हैं. आंकड़े छुपाने के कारण मरीजों के इलाकों में बचाव व इलाज का इंतेजाम नहीं हो पा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें