स्टेशन पर उतरे बेटे के लिए रिटायर्ड आईएएस ने की चेन पुलिंग, मुकदमा दर्ज

Somya Sri, Last updated: Mon, 20th Sep 2021, 10:57 AM IST
  • रिटायर्ड आईएएस ने स्टेशन पर उतरे अपने बेटे को वापस ट्रेन पर न आते देख राजधानी की चेन पुलिंग कर दी. जिसके बाद आरपीएफ जवानों ने रिटायर्ड आईएएस प्रशांत मेहता के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 141 के उल्लंघन के अंतर्गत मामला दर्ज करवाया है.
स्टेशन पर उतरे बेटे के लिए रिटायर्ड आईएएस ने की चेन पुलिंग, मुकदमा दर्ज (प्रतिकात्मक फोटो)

आगरा: आगरा कैंट के रेलवे स्टेशन पर राजधानी एक्सप्रेस की चेन पुलिंग करने के मामले में एक रिटायर्ड आईएएस पर मुकदमा दर्ज किया गया है. रिटायर्ड आईएएस ने स्टेशन पर उतरे अपने बेटे को वापस ट्रेन पर न आते देख राजधानी की चेन पुलिंग कर दी. जिसके बाद आरपीएफ जवानों ने रिटायर्ड आईएएस प्रशांत मेहता के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 141 के उल्लंघन के अंतर्गत मामला दर्ज करवाया है. आरपीएफ जवानों का आरोप है कि आईएएस बताने वाले व्यक्ति ने वर्दी उतरवाने की धमकी दी.

आरपीएफ पोस्ट आगरा कैंट के इंस्पेक्टर सुरेन्द्र चौधरी ने बताया कि रविवार शाम ट्रेन संख्या 01222 मुंबई राजधानी एक्सप्रेस आगरा कैंट रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-1 पर शाम करीब 7.03 बजे आकर रुकी. निर्धारित वक्त तीन मिनट बाद जैसे ही ट्रेन ने चलना शुरू किया, चेन पुलिंग करके ट्रेन रोक दी गई. घटना को लेकर हड़कंप मचा तो ड्यूटी पर तैनात आरपीएफ स्टाफ को पता चला कि कोच संख्या एच-1 से चेन पुलिंग की गई. आरपीएफ दस्ता कोच में पहुंचा और चेन पुलिंग करने वाले यात्री को तलाशा। ट्रेन सवार यात्री प्रशांत मेहता ने आरपीएफ को बताया कि उनका बेटा स्टेशन पर कुछ सामान लेने गया है जो कोच में नहीं आ सका, इसलिए चेन पुलिंग की है. आरपीएफ जवानों ने जब प्रशांत मेहता से कहा कि चेन पुलिंग करना रेलवे अधिनियम के तहत अपराध है, रेलवे एक्ट की धारा 141 के उल्लंघन के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी. तो उन्होंने जवानों की वर्दी उतरवाने की धमकी दी.

आगरा: इंस्पेक्टर ने पत्नी पर चलाई गोली, बाल-बाल बची महिला ने की शिकायत, मामला दर्ज

बताया जा रहा है कि चेन पुलिंग के कारण ट्रेन नौ मिनट लेट हुई. प्रशांत मेहता के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. रिटायर्ड आईएएस प्रशांत मेहता ने कहा कि,'मेरा बेटा स्टेशन पर दवाई लेने उतरा था. ट्रेन चलने से पहले वह नहीं लौटा तो मैंने चेन पुलिंग की. यह कोई अपराध नहीं है. आरपीएफ ने बेवजह का केस बनाया है.'

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें