आगरा की स्थिति देश के दस बड़े शहरों से बेहतर, डीएम ने बताए कोरोना बचाव के उपचार

Smart News Team, Last updated: Tue, 29th Sep 2020, 6:56 PM IST
  • आगरा. डीएम से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात की थी. इसी में आगरा के डीएम ने प्रस्तुतिकरण दिया. उन्होंने बताया कि ताजनगरी में 27 अप्रैल से 27 सितंबर तक कोरोना के मामलों में 14 गुना की वृद्धि हुई है.
,प्रतीकात्मक तस्वीर 

आगरा। देश के दस बड़े शहरों से ताजनगरी आगरा की स्थिति सबसे बेहतर साबित हुई है. डीएम आगरा के प्रयास से कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी थोड़ी कम हुई है. ताजनगरी में कोरोना के संक्रमण से बचाव से लेकर संक्रमितों के उपचार के लिए क्या-क्या बंदोबस्त किए गए. इसमें सबसे महत्वपूर्ण संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की पहचान कर उनकी जांच कराना है.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देर शाम प्रदेश के सभी मंडलायुक्त और डीएम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की थी. इसी में आगरा के डीएम ने प्रस्तुतिकरण दिया. उन्होंने बताया कि ताजनगरी में 27 अप्रैल से 27 सितंबर तक कोरोना के मामलों में 14 गुना की वृद्धि हुई है. जबकि चेन्नई. पुणे जैसे शहरों की वृद्धि दर 282 गुना तक है. अब तक ताजनगरी में कुल नमूनों में से मिल रहे संक्रमितों में तीन प्रतिशत की गिरावट आई है.

आगरा डीएम ने बताया कि संक्रमित के यात्रा का इतिहास न बताने पर पहला मुकदमा आगरा में दर्ज किया गया था. आगरा में लॉकडाउन के दौरान 24 घंटे काम करने वाला कंट्रोल रूम बनाया गया. हेल्पलाइन नंबर पर 55 हजार कॉल आईं है.

मिठाई खरीदने से पहले देख लें बेस्ट बिफोर, 1 अक्टूबर से हो रहा है ये बड़ा बदलाव

 बचाव मंत्र-

1. 55 टीमों का गठन : जिले में 55 रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) गठित की गईं. ये 24 घंटे काम करती हैं.

2. सहयोगी टीम का गठन : दूसरी टीम संक्रमित के नजदीकी संपर्क के लोगों की स्क्रीनिंग करती है और नमूने लेती है.

3. घरों का सैनिटाइजेशन : नगर निगम की टीम संक्रमित के घर जाकर सैनिटाइजेशन करती है.

4. शहर का सैनिटाइजेशन : दमकल की टीमों ने शहर में बड़े पैमाने पर सैनिटाइजेशन किया गया.

5. निष्पक्ष मूल्यांकन : तीसरे पक्ष (थर्ड पार्टी) से निरीक्षण कर बचाव कार्य का मूल्यांकन कराया गया.

यूपी विधानसभा उपचुनाव: 7 सीटों पर 3 नवंबर को वोटिंग, 10 को रिजल्ट

उपचार ये है खास -

1. जांच की संख्या बढ़ाई : संक्रमितों का जल्दी पता लगाया. ट्रूनेट मशीन से जांच की संख्या बढ़ाई.

2. बेहतर दवाइयों का प्रयोग : रेमडेसिविर, फेविपिराविर जैसी ड्रग्स का इस्तेमाल संक्रमितों के उपचार में कर रहे हैं.

3. प्लाज्मा थेरेपी का प्रयोग : संक्रमण की प्रारंभिक अवस्था में मरीज को प्लाज्मा थेरेपी दे रहे हैं.

4. सीसीटीवी से निगरानी : उपचार व्यवस्था पर नजर रखने के लिए यह व्यवस्था की गई है.

5. तालमेल : बेहतर उपचार के लिए आईएमए के साथ तालमेल बनाया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें