सेक्स रैकेट क्वीन रोशनी ने खोले कई बड़े नाम, कारोबारियों को सता रहा बीवी का डर

Smart News Team, Last updated: 25/07/2020 09:11 PM IST
  • विदेशी कॉल गर्ल सेक्स रैकेट क्वीन रोशनी को दो दिन रिमांड पर रखने के बाद जेल भेज दिया है. कारोबारी ये जानने के लिए परेशान हैं कि कहीं रोशनी ने उनका नाम तो नहीं ले लिया है.
सेक्स रैकेट क्वीन रोशनी ने खोले कई बड़े नाम, कारोबारियों को सता रहा बीवी का डर

रोशनी नागवानी को दो दिन की रिमांड के बाद पुलिस ने जेल भेज दिया है. उसके जेल जाने के बाद से अब आगरा के कारोबारी इस बात से परेशान हैं कि कहीं रोशनी ने उनका नाम तो नहीं ले लिया है? दरअसल रोशनी आगरा के कई बड़े कारोबारियों को विदेशी कॉल गर्ल सप्लाई करती थी. उसके जेल जाते ही सभी कारोबारियों में हलचल है ये जानने कि की रोशनी ने पुलिस पूछताछ में किस-किस का नाम लिया है? कारोबारियों को चिंता है कि उनका नाम आने से उनकी पत्नियों को भी इसकी जानकारी होगी और इससे घर में कलेश होगा. यहां तक की उनके घूमने-फिरने पर भी पाबंदी लग जाएगी और इससे पहले व्यापार के बहाने बहार जाने पर सवाल-जवाब होंगे.

विदेशी कॉल गर्ल सेक्स रैकेट क्वीन रोशनी का दिल्ली की फेमस सोनू पंजाबन से कनेक्शन

दरअसल पुलिस ने रोशनी को दो दिन की रिमांड पर लेकर उससे पूछताछ की थी. उससे उसके नियमित ग्राहकों के बारे में जानकारी ली गई थी. बताया जा रहा है कि उसने शहर के कई सर्राफा कारोबारियों के नाम बताए हैं. इनके अलावा हाथरस, फिरोजाबाद और मथुरा के बिल्डरों के भी नाम हैं. अभी तक पुलिस ने ग्राहकों की उस सूची को गोपनीय रखा है. हालांकि चर्चा से कुछ नाम बाहर आ गए हैं. कुछ कारोबारी अब रोशनी के परिचितों को फोन करके जानने की कोशिश में जुटे हैं कि किस-किस के नाम पुलिस को बताए गए हैं.

आगरा के नीरज सिंह बनाएंगे कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर वेब सीरीज

जो कारोबारी सीधे रोशनी के संपर्क में थे या उससे लड़कियां ली थीं वे बेहद परेशान हैं. सूत्रों के अनुसार रोशनी ने पुलिस को यह भी बताया कि कुछ कारोबारी सिर्फ डांस देखने के शौकीन है और वो अच्छी डांसर की मांग करते थे. हालांकि कुछ कारोबार के सिलसिले में बाहर जाते थे तो युवतियों को अपने साथ ले जाते थे. 

आगरा में बच्चा पॉकेटमार गैंग एक्टिव, सेकेंडों में कर देते हैं लाखों रुपये साफ

उसने बताया कि कई कारोबारी आगरा से कारोबार के सिलसिले में मुंबई, चेन्नई, कोलकाता जाते रहते थे. वो घर से अकेले निकलते थे. युवतियां उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट के पास मिल जाती थीं. जो ट्रेन से जाते थे उन्हें युवतियां ट्रेन में मिल जाती थीं. युवतियों को उनकी टिकट मोबाइल पर भेज दी जाती थी. फिलहाल लॉक डाउन से यह सब कुछ बंद चल रहा था. होटल भी बंद हो गए थे. युवतियों की डिमांड भी कम हो गई थी.

अन्य खबरें