डॉक्टर योगिता गौतम मर्डर केस: शाम को आगरा में था आरोपी विवेक तिवारी, हिरासत में

Smart News Team, Last updated: 20/08/2020 01:47 AM IST
  • आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज की पीजी पास डॉक्टर योगिता गौतम के मर्डर केस में फैमिली की शिकायत पर अपहरण और हत्या के आरोपी बनाए गए डॉक्टर विवेक तिवारी वारदात की शाम आगरा में थे, पुलिस की जांच से ये बात बाहर आई है. 
डॉक्टर योगिता गौतम जब एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही थीं तब डॉक्टर विवेक तिवारी उनसे एक साल सीनियर थे जिन पर योगिता की अपहरण करके हत्या का आरोप लगा है. फोटो में विवेक तिवारी जालौन पुलिस के साथ दिख रहे हैं.

आगरा. एसएन मेडिकल कॉलेज की पीजी पास छात्रा डॉक्टर योगिता गौतम की हत्या के केस में योगिता के परिवार की शिकायत पर आरोपी बनाए गए डॉक्टर विवेक तिवारी अपहरण की घटना की शाम आगरा में थे, ये बात पुलिस की जांच से सामने आई है. आगरा पुलिस योगिता की फैमिली को सुबह से टहला रही थी लेकिन जैसे ही शाम में योगिता के शव की परिवार ने शिनाख्त की, पूरा पुलिस महकमा हिल गया. 

एसएसपी ने कई पुलिस टीम बनाकर योगिता गौतम मर्डर केस के हर बिंदु पर जांच का काम शुरू करवा दिया है. बुधवार की रात 9 बजे मूल रूप से कानपुर के रहने वाले डॉक्टर विवेक तिवारी को जालौन में हिरासत में ले लिया गया. तिवारी को जालौन से आगरा लाया जा रहा है जहां पुलिस के बड़े अधिकारी इस केस के बारे में आरोपी डॉक्टर से पूछताछ करेंगे. 

पुलिस ने जब विवेक तिवारी को हिरासत में लिया तो वो खुद को निर्दोष बता रहा था और दावा कर रहा था कि वो तो आगरा गया ही नहीं था लेकिन मंगलवार की शाम 6 बजे की उसकी मोबाइल लोकेशन आगरा की मिली है और पुलिस इस ठोस सबूत को उसे पूछताछ के दौरान तोड़ने में इस्तेमाल करेगी. 

आगरा एसएन मेडिकल कॉलेज की डॉ. योगिता गौतम की हत्या, सीनियर पर केस

पुलिस सूत्रों के अनुसार डॉक्टर योगिता गौतम ने मंगलवार शाम साढ़े सात बजे विवेक तिवारी से आखिरी बार बातचीत की थी. उसके बाद योगिता के मोबाइल पर कोई कॉल नहीं आया. शाम 6 बजे से डॉक्टर विवेक तिवारी की मोबाइल लोकेशन आगरा की थी. रात सवा बारह बजे लोकेशन उरई जालौन हुई. 

आगरा: बस मालिक की कोरोना से हुई मौत तो कर्ज देने वाले ने किया बस को हाइजैक

पुलिस विवेक तिवारी के मोबाइल टावर लोकेशन के आधार पर अंदाजा लगा रही है कि योगिता की हत्या रात आठ से नौ बजे के बीच हुई है. डॉक्टर योगिता के भाई ने केस में अज्ञात कार सवार का भी जिक्र किया है. पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर वो अज्ञात युवक कौन है. डॉक्टर विवेक तिवारी के साथ कौन आया था. 

लखनऊ गैस कटिंग केस में 31 की गिरफ्तारी के खिलाफ 20 अगस्त गुरुवार से LPG स्ट्राइक

एसएसपी ने बताया कि डॉक्टर विवेक तिवारी के आगरा आने के बाद पूछताछ से योगिता मर्डर केस के सभी सवालों का जवाब मिल जाएगा. एसएसपी ने कहा कि विवेक तिवारी के आगरा आने की पुष्टि हो चुकी है. उसकी और डॉक्टर योगिता की बातचीत के प्रमाण हैं. जिस रास्ते से विवेक तिवारी आगरा से वापस लौटा है, योगिता का शव उसी रूट पर मिला है.

कानपुर से बरामद हुई योगिता मर्डर केस में संदिग्ध विवेक तिवारी की टाटा नेक्सन कार

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि योगिता गौमत के शव की पहचान होते ही पुलिस की कई टीमों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई. डॉक्टर विवेक तिवारी के पास टाटा नेक्सन कार है. डॉक्टर योगिता के भाई ने अपहरण के मुकदमे में ऐसी ही कार का जिक्र किया था जो सीसीटीवी में भी आ गई थी. डॉक्टर विवेक ने कार को कानपुर में छिपा रखा था जिसे पुलिस टीम ने बरामद कर लिया है. विवेक तिवारी की कार को कानपुर से आगरा लाया जा रहा है जिसकी फोरेंसिक जांच कराई जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें