डॉ. योगिता गौतम मर्डर केस: कोविड महिला की डिलीवरी टीम में शामिल थीं योगिता

Smart News Team, Last updated: 20/08/2020 02:07 PM IST
  • डॉक्टर योगिता की पिछले दिनों काफी तारीफ हुई थी. उन्होंने एक कोरोना पॉजिटिव महिला की डिलीवरी कराई थी. योगिता की ड्यूटी कोविड वार्ड में ही थी. मंगलवार को योगिता की हत्या हो गई. परिवार ने योगिता एक सीनियर डॉक्टर विवेक तिवारी पर हत्या का आरोप लगाया है.
डॉ. योगिता उस टीम का हिस्सा थीं, जिन्होंने कोरोना पॉजिटिव महिला की डिलीवरी करवाई थी. डॉ. योगिता गौतम की ड्यूटी अभी कोविड वार्ड में ही थी.

आगरा.आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज के पीजी की छात्रा डॉक्टर योगिता गौतम की मंगलवार को हत्या कर दी गई. डॉ. योगिता पिछले दिनों उस टीम में भी शामिल थीं, जिन्होंने कोरोना पॉजिटिव महिला की डिलीवरी करवाई थी. डॉक्टर योगिता गौतम की ड्यूटी अभी कोविड वार्ड में ही थी. योगिता के भाई डॉ. मोहिंदर कुमार गौतम ने बताया कि उनकी बहन योगिता की पिछले दिनों सभी लोगों ने काफी तारीफ की थी. बहन उस टीम में शामिल थी जिसने कोविड महिला मरीज की डिलीवरी कराई थी. उस समय बहन की खुशी का ठिकाना नहीं था.

योगिता की हत्या से अस्पताल के सभी सीनियर डॉक्टर स्तब्ध हैं. डॉक्टरों के अनुसार योगिता काफी होशियार थीं. वे बहुत कम बोलती थी और सिर्फ़ पढ़ाई और दिए गए काम को पूरा करने में जुटी रहती थीं। अप्रैल में योगिता उस टीम का हिस्सा रहीं जिसने उत्तर प्रदेश की पहली कोविड डिलीवरी कराई थी. अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड के लिए पहली टीम बनाई थी . इसमें स्त्री और प्रसूति रोग विभाग की भी एक टीम बनाई गई. इस टीम को संक्रमित गर्भवतियों के सिजेरियन प्रसव की जिम्मेदारी दी गई . विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ सरोज सिंह के नेतृत्व में टीम ने गजब का काम किया. दल में शामिल डॉ योगिता ने 21 अप्रैल को उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के पहले सिजेरियन प्रसव को अंजाम दिया था.

डॉक्टर योगिता गौतम मर्डर केस: हाथ में बाल नाखून में खाल, मरने से पहले बहुत लड़ीं

योगिता आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज के स्त्री रोग विभाग में पीजी की थर्ड ईयर की छात्रा थीं. जिनकी मंगलवार को हत्या कर दी गई. मंगलवार को ही डॉक्टर योगिता का एमएस का रिजल्ट निकला था और उनकी एमएस पूरी हो गई थी. उसके बाद दोपहर तीन बजे से वह किसी को दिखाई नहीं दीं. कल फतेहाबाद हाईवे पर बमरौली कटारा क्षेत्र में उनका शव मिला था. इससे पहले डॉ योगिता के भाई डॉक्टर मोहिंदर कुमार गौतम ने एक सीनियर डॉक्टर पर ही अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था और उस पर योगिता की हत्या करने का आरोप भी लगाया था.

आगरा एसएन मेडिकल कॉलेज की पीजी स्टुडेंट डॉ. योगिता गौतम की हत्या, सीनियर पर केस

 

डॉक्टर योगिता गौतम मर्डर केस: शाम को आगरा में था आरोपी विवेक तिवारी, हिरासत में

 

योगिता के शव की पहचान होने पर परिवार की शिकायत पर पुलिस ने डॉ विवेक को हिरासत में ले लिया है. एडीजी अजय आनंद ने बताया कि बुधवार सुबह बमरौली कटारा के पास एक युवती का शव मिला था. युवती की शिनाख्त डॉक्टर योगिता गौतम के तौर पर हुई. इस मामले में पुलिस टीम ने उरई से आरोपी डॉ विवेक तिवारी को पकड़ा है और उससे पूछताछ की जा रही है. पुलिस के पास इस बात की भी साक्ष्य हैं कि विवेक तिवारी मंगलवार शाम तक आगरा में ही था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें