आगरा SSP साइबर क्राइम के शिकार, अपराधी ने फर्जी FB आईडी बनाकर मांगे पैसे

Smart News Team, Last updated: 14/10/2020 11:34 PM IST
  • आगरा के एसएसबी बबलू कुमार साइबर क्राइम के शिकार हो गए हैं. दरअसल अपराधी ने एसएसपी बबलू कुमार के फोटो और नाम का इस्तेमाल कर पहले फर्जी फेसबुक आईजी बनाई. फिर उसी आईडी से एसएसपी के दोस्तों से मैसेंजर के जरिए रुपये मांगने शुरू कर दिए.
आगरा के एसएसपी बबलू कुमार साइबर क्राइम के शिकार हो गए हैं

आगरा: एसएसपी आगरा बबलू कुमार के साथ साइबर क्राइम हुआ है. साइबर अपराधी ने फेसबुक पर उनके नाम से एक अकाउंट बनाया. उनकी फोटो लगाई. मैसेंजर पर उनके परिचितों को मैसेज किए. जरूरी काम बताकर 20 से 10 हजार रुपये तक तत्काल खाते में ट्रांसफर करने को कहा. बुधवार को मामला संज्ञान में आते ही एसएसपी ने फर्जी अकाउंट ब्लाक करा दिया. मामले की जांच साइबर सेल को दी गई है. अपराधी का अंदाज देखकर पुलिस कर्मी भी हैरान हैं. उसे अपने पकड़े जाने का खौफ तक नहीं है.

एसएसपी बबलू कुमार का फेसबुक पर अकाउंट है. फ्रेंड लिस्ट में 3433 लोग शामिल हैं. साइबर अपराधी ने फेसबुक से ही उनकी वार्दी वाली फोटो को कॉपी किया. फेसबुक पर उनके नाम से एक दूसरा अकाउंट बनाया. उसमें उनकी फोटो लगाई. उसके बाद उनके नाम से मैसेंजर पर लोगों को मैसेज भेजना शुरू कर दिया. जिसके पास भी मैसेज पहुंचा वह हैरान रह गया. आखिर ऐसा क्या हुआ कि एसएसपी आगरा को रुपये की जरूरत आन पड़ी.

भाजपा सांसद का फेसबुक पर बना फेक अकाउंट, बीमारी के नाम पर मांगे गए 25 हजार रुपये

इतना ही नहीं शातिर ने यह भी मैसेज किया कि रकम दूसरे दिन वापस कर देंगे. ताकि लोगों को यकीन हो जाए. कुछ परिचितों ने बुधवार को एसएसपी बबलू कुमार को फोन कर इसकी जानकारी दी. एसएसपी ने दोपहर एक बजे फेसबुक पर पोस्ट की. इसमें उन्होंने लिखा कि किसी ने उनके फोटो और नाम से फर्जी आइडी बना ली है. वह लोगों को मैसेज करके पैसे मांग रहा है. उसके झांसे में आकर रुपये न दें. इसके बाद तमाम लोगों के कमेंट आने शुरू हो गए. बहुत से लोगों ने बताया कि उन्हें भी फेक अकाउंट से रिक्वेस्ट आई थी. किसी ने लिखा कि उनसे भी रुपये मांगे थे. एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि फेक फेसबुक आइडी ब्लाक करा दी गई है. साइबर सेल ने जांच शुरू कर दी है.

मेरठ में फेक फेसबुक आईडी बनाकर ठगने वाले गैंग का बिल्डर बना शिकार!

अब तक 80 से अधिक हुई हैं घटनाएं

साइबर सेल के लिए पहली बार यह गंभीर घटना है. इससे पहले इसी अंदाज में 80 से अधिक घटनाएं हो चुकी हैं. कुछ लोग अपने परिचित का मैसेज समझकर रुपये भी ट्रांसफर कर देते हैं. बाद में उन्हें जानकारी होती है कि वे ठग गए। पूर्व में सीओ ताज सुरक्षा मोहसिन खान, सीओ लाइन सुनील कुमार का भी ऐसे ही फर्जी अकाउंट बनाया गया था. सांसद राजकुमार चाहर, वरिष्ठ अधिवक्ता शैलराज सिंह के साथ भी इसी अंदाज में घटना हुई थी. ऐसे तमाम प्रतिष्ठित लोग हैं जिनकी फेसबुक आईडी बनाकर या हैक करके उने परिचितों को मैसेज भेजने की घटनाएं हो चुकी हैं. साइबर सेल अभी तक एक भी घटना का खुलासा नहीं कर पाई है. इस बार मामला जिले के पुलिस कप्तान से जुड़ा है. साइबर सेल के सामने चुनौती है. आरोपित हर सूरत में पकड़ना है. इसलिए साइबर सेल की टीम जांच में जुटी हुई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें