आगरा

आगरा: कोख के सौदागर का काला चिट्ठा खंगालेगी पुलिस, 10 दिन की रिमांड पर सुनवाई आज

Smart News Team, Last updated: 03/07/2020 12:12 PM IST
  • आगरा में किराए की कोख के सौदागर गिरोह की सरगना नीलम जेल में है। फतेहाबाद थाना पुलिस ने उसे रिमांड पर लेने के लिए गुरुवार को कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया।
किराए की कोख के सौदागर की रिमांड पर सुनवाई आज

आगरा में किराए की कोख के सौदागर गिरोह की सरगना नीलम जेल में है। फतेहाबाद थाना पुलिस ने उसे रिमांड पर लेने के लिए गुरुवार को कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया। पुलिस उसे दस दिन के लिए रिमांड पर लेना चाहती है। नीलम ने बयान में फरीराबाद के दो आईवीएफ सेंटर के नाम बताए थे। वह यहां भी सेरोगेसी के लिए महिलाओं को भेजा करती थी। रिमांड प्रार्थना पत्र पर सुनवाई आज है।

फरीदाबाद निवासी नीलम के साथ रूबी नाम की महिला भी पकड़ी गई थी। दो गाड़ी के चालकों सहित तीन पुरुष भी गिरफ्तार हुए थे। पूछताछ में खुलासा हुआ था कि नीलम तीन नवजात बालिकाओं को नेपाल लेकर जा रही थी। आठ लाख रुपये में एक बच्ची का सौदा हुआ था। गर्भधारण की प्रक्रिया नेपाल के एक हॉस्पिटल में हुई थी। डिलीवरी भी वहां होनी थी मगर लॉकडाउन के कारण डिलीवरी फरीदाबाद में कराई गई थी। फतेहाबाद पुलिस ने फरीदाबाद के तीन डॉक्टरों के भी बयान दर्ज किए थे। तीनों ने इस गिरोह से कोई भी संबंध होने से इनकार किया था।

मोटी रकम व किराए की कोख...नेपाल में बिकने थे 3 नवजात बच्चे, पुलिस ने ऐसे दबोचा

फतेहाबाद सीओ विकास जायसवाल ने बताया कि नीलम अकेली नहीं है। उसके गिरोह में कई महिलाएं हैं। नीलम की खुद की 14 साल की एक बेटी है। वह अपने पति को तलाक दे चुकी है। नीलम की सगी बहन उसके घर के पास ही रहती है। वह नीलम की बेटी की देखभाल करती है। नीलम ऐसी बस्तियों और मोहल्लों में स्वास्थ्य कर्मी बनकर सर्वे करने जाती थी, जहां गरीब तबके के लोग रहते हैं। वहां ऐसी महिलाओं को चिन्हित किया करती थी, जो अपने पतियों से अलग रहती हैं। उन महिलाओं को घर बैठे पैसे कमाने का लालच देकर वह सेरोगेसी के लिए तैयार किया करती थी। 

कोख के सौदागरों का खुला राज: एक बच्चे की कीमत 8 लाख, ये महिलाएं होती हैं टारगेट

भारतीय निसंतान दंपति के लिए सेरोगेसी कानूनन अपराध नहीं है। ज्यादातर बच्चियों को नेपाल में भेजा जाता था। वहां सेरोगेसी प्रतिबंधित है। नीलम ने पूछताछ में फरीदाबाद के दो आईवीएफ सेंटर के नाम भी बताए थे। यह जानकारी दी थी कि वह महिलाओं को वहां भी भेजा करती थी। बिना लागत के उसे एक केस में तीन से चार लाख रुपये बच जाया करते थे। उसने हाल में एक प्लॉट भी खरीदा था।

रिमांड पर उससे पूछताछ में और जानकारियां मिलने की उम्मीद है। पुलिस चाहती है कि इस मामले को नेपाल तक ले जाया जाए। ताकि वहां हॉस्पिटल संचालक महिला पर शिकंजा कसा जा सके। नेपाल से जुड़े सारे केस वे ही नीलम को दिया करती थी।

अन्य खबरें