आगरा: शिक्षक के घर से 20 लाख का सोना और नकदी ले उड़े चोर

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Oct 2020, 11:45 PM IST
  • अवधपुरी के पास गंगा एस्टेट कोलोनी में एक शिक्षक के घर में 20 लाख रूपए की चोरी हो गई. चोर शिक्षक के घर से 35 तोले सोना और कैश चोरी करके ले गए हैं. चोरी की इस घटना की वजह से शिक्षक का पूरा परिवार सदमे में है. 
आगरा: शिक्षक के घर से 20 लाख का सोना और नकदी ले उड़े चोर

अवधपुरी के पास गंगा एस्टेट कॉलोनी (जगदीशपुरा) में चोरों ने एक शिक्षक को कंगाल बना दिया. शिक्षक की गैरमौजूदगी में चोर उसके घर से लगभग 20 लाख रुपये का माल चोरी कर ले गए. जिसमें 35 तोले सोना भी शामिल है. इस शिक्षक का नाम शिशिर जादौन हैं और वो उनकी पोस्टिंग फतेहपुर सीकरी में है. इस वारदात के बाद से ही शिक्षक का पूरा परिवार सदमे में है और इलाके में भी सनसनी फैल गई है. शिक्षक की पत्नि को इस चोरी का ऐसा गम लगा की उनकी तबीयत खराब हो गई है.

पीड़ित शिक्षक ने इस अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. कॉलोनी में लगे एक कैमरे में दो युवक कैद हुए हैं लेकिन फिलहाल चोरों का सुराग नहीं मिला है. शिक्षक का कहना है कि चोर नहीं पकड़े गए तो जीते जी कभी पत्नी के लिए इतने जेवरात नहीं बनवा पाएंगे. शिशिर (पीड़ित शिक्षक) का गंगा एस्टेट में अपना घर है. शनिवार को वह पत्नी और दो बच्चों के साथ टूंडला अपनी बहन के घर मिलने गए थे. शिशिर ने बताया कि पत्नी और मां के पुश्तैनी जेवरात घर में ही रखे थे. जाने से पहले उन्होंने बैंक से 50 हजार रुपये निकाले थे जिसमें से सात हजार रुपये वो अपने साथ ले गए थे और बाकी 43 हजार रुपये घर में ही छोड़ गए थे. सोमवार को जब वो वापस लौटे तो घर के ताले टूटे देख उनके होश उड़ गए.

आगरा में गाड़ियों से लदे कंटेनर में यात्री बन सवार हुए बदमाश, नई कार लूटी

चोरों ने घर का कोना-कोना छान मारा था. चोर सोने-चांदी के सारे जेवरात और पत्नी की महंगी साड़ियां, घड़ियां आदि सामान बटोरकर ले गए. सूचना पर पुलिस मौके पर आई जिसके बाद पुलिस ने कॉलोनी में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले.शिशिर का कहना है कि घटना ने उनका दिमाग सुन्न कर दिया है. वो समझ नहीं पा रहे हैं कि क्या करें तो करें क्या. उनका कहना है कि अगर चोर पकड़े नहीं गए तो वो बर्बाद हो जाएंगे. उनकी पत्नी को जेवरात शादी में मिले थे और मां के जेवरात पुश्तैनी थे. शिशिर का कहना है कि वो एक मामूली शिक्षक हैं और वे इतने सारे जेवरात किसी भी कीमत पर दोबारा नहीं खरीद पाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें