आगरा विवि ने 104 कॉलेजों में प्रवेश पर लगाई रोक, सिर्फ 24 कॉलेजों में होगी प्रवेश

Smart News Team, Last updated: Thu, 19th Aug 2021, 12:17 PM IST
  • आगरा के डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय ने मथुरा के 104 कॉलेजों में प्रवेश पर रोक लगा दी है. इस फैसले से 104 कॉलेजों को तगड़ा झटका लगा है. अब इन कॉलेजों में विद्यार्थी नहीं पढ़ सकेंगे. विश्वविद्यालय ने कॉलेजों में मानक पूरे ना होने और आधारभूत सुविधा ना होने वाली कॉलेजों में प्रवेश पर रोक लगाई है.
डॉ भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय, आगरा (फाइल फोटो)

आगरा: आगरा के डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय ने मथुरा के 104 कॉलेजों में प्रवेश पर रोक लगा दी है. इस फैसले से 104 कॉलेजों को तगड़ा झटका लगा है. अब इन कॉलेजों में विद्यार्थी नहीं पढ़ सकेंगे. विश्वविद्यालय ने कॉलेजों में मानक पूरे ना होने और आधारभूत सुविधा ना होने वाली कॉलेजों में प्रवेश पर रोक लगाई है. अब मथुरा के केवल 24 कॉलेजों में ही प्रवेश होगी यानी ये 24 कॉलेज ही आधारभूत सुविधा के पैगाम पर खरे उतरे हैं.

बता दें कि डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय ने पांच कॉलेजों की संबद्धता खत्म करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है. इसके अलावा विश्वविद्यालय ने 68 कॉलेजों की संबद्धता अग्रिम आदेशों तक स्थगित कर दी है. मालूम हो कि मथुरा के विधायक पूरन प्रकाश ने विधानसभा में मथुरा के कॉलेजों का बिना मानकों के संचालन पर सवाल उठाया था. जिसके बाद एक जांच कमेटी बनाई गई और इन कॉलेजों का निरीक्षण किया गया. जिसमें पाया गया कि 104 ऐसे कॉलेज हैं जहां पर आधारभूत सुविधाएं ही नहीं है. अब मथुरा के केवल 24 कॉलेजों में ही विद्यार्थी एडमिशन ले पाएंगे.

योगी सरकार का रक्षाबंधन पर बहनों को तोहफा, मुफ्त किया रोडवेज बसों का सफर

बता दें कि 31 कॉलेज ऐसे हैं जिन्हें 23 अगस्त तक का समय दिया गया है. जिसमें उन्हें अपने सभी मानक पूरे करने होंगे. मानक पूरे होने पर ही इन कॉलेजों में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो पाएगी. हालांकि इससे पहले विश्वविद्यालय ने मथुरा के कॉलेजों को 30 जून तक का समय दिया था. लेकिन, अब इस तारीख को बढ़ाकर विश्वविद्यालय ने 23 अगस्त तक का समय दे दिया है. इस दौरान इन कॉलेजों को सभी मानक पूरा करना होगा, जिसके बाद ही इन कॉलेजों के 50% सीटों पर प्रवेश प्रक्रिया आरंभ होगी. फिलहाल, अभी सिर्फ 24 कॉलेजों में ही प्रवेश प्रक्रिया होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें