मिट्टी खोदने के दौरान हुआ हादसा, महिला सहित तीन बच्चे घायल, एक की मौत

Anurag Gupta1, Last updated: Tue, 12th Oct 2021, 11:19 AM IST
  • आगरा पिधौरा क्षेत्र के रिठाई गांव में मिट्टी खोदने के दौरान हादसा हो गया. एक बच्चे की मौत हो गई जबकि एक महिला समेत तीन अन्य घायल है. त्योहार के मौसम में घर की साफ सफाई और पेंटिंग के लिए यमुना से पीली मिट्टी खोदने गए थे.
यमुना के किनारे आते है लोग मिट्टी खोदने (फाइल फोटो)

आगरा. पीनहाट के पिधौरा क्षेत्र के रिठाई गांव में यमुना में मिट्टी खोदने के दौरान हादसा हो गया. सोमवार की सुबह गांव की महिलांए व बच्चे पीली मिट्टी खोदने गए थे. मिट्टी खोदने के दौरान एक मिट्टी का शेड आकर उनके ऊपर गिर गया. जिसके कारण सभी उसी शेड के नीचे दब गए. मिट्टी के नीचे दबने से एक बच्चे की मौत हो गई है और एक महिला समेत तीन बच्चे गंभीर रूप से घायल है. सभी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से आगरा रेफर कर दिया गया है.

हादसा सोमवार की सुबह 10 बजे पीली मिट्टी खोदने के दौरान हुआ. पिधौरा गांव की महिलाएं व बच्चे यमुना नदी से मिट्टी खोदने गए थे. सभी मिट्टी खोदने में व्यस्त थे इसी दौरान एकाएक धरती का छज्जा गिर गया. इसके नीचे महिलाएं व बच्चे दब गए. जो छज्जा गिरा उसके ऊपर अन्य महिलाएं व बच्चे खड़े थे. मिट्टी का छज्जा गिरने के बाद नीचे दबे सभी और वहां मौजूद लोगों के बीच चीख पुकार मच गया. आवाज सुनकर आसपास खेतों में काम करने वाले लोग एकत्रित हो गए. कुछ ही देर में गांव के लोग भी काफी संख्या में वहां पहुंच गए. काफी मशक्कत के बाद किसी तरह फावड़े से मिट्टी हटाकर महिलाओं व बच्चों को बाहर निकाला गया. इसके बाद सभी को पास के अस्पताल में ले जाया गया. जहां पर आठ वर्षीय गुंजन को मृत घोषित कर दिया.

घर के बाहर सो रहे किसान की बेरहमी से हत्या, चारपाई पर मिला खून से लथपथ शव

घायलों में 35 वर्षीय अनीता, छह वर्षीय नितिन, आठ वर्षीय अंशु और 18 वर्षीय अवधेश है. सभी को आनन फानन में जिला अस्पताल में लाया गया जहां उनकी हालत नाजुक बताई गई है. जिसके चलते उन्हें आगरा रेफर कर दिया गया है.

त्योहार के पहले जाते है मिट्टी खोदने:

त्योहार से पहले गांव की महिलाएं बच्चे घर की साफ-सफाई और पेंटिंग के लिए मिट्टी खोदने जाते हैं. सभी मिट्टी खोद रहे थे उसी दौरान मिट्टी का छज्जा गिरने से हादसे का शिकार हो गए. महिला समेत तीन की हालत नाजुक है. हादसे की वजह से गांव में मातम का महौल है. चंद ही घंटों में त्योहार की खुशियां मातम में बदल गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें