आगरा: अमित शाह के फर्जी भांजे ने पूछताछ में कबूला सच, पुलिस ने भेजा जेल

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 08:12 PM IST
अमित शाह का भांजा बनकर ठगी करने वाले युवक ने पूछताछ में सच कबूल कर लिया है. पुलिस ने उसे जेल भेज दिया है. युवक के बारे में जानकारी निकालने के लिए पुलिस जांच में जुटी है.
अमित शाह का भांजा बनकर ठगी करने वाला युवक.

आगरा. नाई की मंडी पुलिस में गृहमंत्री अमित शाह के फर्जी भांजे विराज शाह यश कुमार को जेल भेज दिया है. छानबीन में पुलिस को पता चला है कि उसके खिलाफ उज्जैन में भी धोखाधड़ी का मामला दर्ज. पूछताछ में युवक ने कबूल कर लिया है कि वह एक ठग है. अहमदाबाद पुलिस से संपर्क कर युवक के बारे में जानकारी निकालने का प्रयास किया जा रहा है.

गौरतलब है कि इससे पहले इस फर्जी भांजे ने पुलिस को धमकाने का प्रयास भी किया. उसने पुलिस को धमकाते हुए कहा कि एक फोन आएगा और सभी के पसीने छूट जाएंगे.दरअसल जब विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने युवक को पुलिस के हवाले किया तो पुलिस ने अमित शाह के पीए से फोन पर बात की. लेकिन युवक ने पुलिस को इस तरह से अपने प्रभाव में ले लिया था कि पहले दो-तीन घंटे तक तो पुलिस उससे पूछताछ की हिम्मत ही नहीं जुटा पाई. उसने उन्हें धमकाने का भी प्रयास किया. इसको लगा कि कहीं यह वास्तव में सच तो नहीं बोल रहा है.

आगरा: अमित शाह को मामा बताकर ठगी कर रहा था फर्जी भांजा, विधायक को भी नहीं छोड़ा

लेकिन बाद में जब योगेंद्र उपाध्याय ने इस बात की पुष्टि की और कहा कि यह सच में फर्जी है. इसका गृहमंत्री से दूर- दूर तक कोई भी लेना देना नहीं है. इसके बाद पुलिस ने अपने अंदाज में आरोपी से पूछताछ की. पूछताछ में आरोपी ने कबूल किया है कि वह ठग है.

एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि आरोपी की मोबाइल में पासपोर्ट मिला है. जिस पर उसका नाम यश कुमार पिता का नाम अश्विनी कुमार लिखा था. वह अहमदाबाद गुजरात का रहने वाला है.पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम विराज शाह और पिता का नाम अश्विन भाई शाह बताया था.

आगरा: थाने में बहू ने किया सास बदलने का ऐलान, पति के साथ रहने से भी किया इन्कार

उसने बताया कि वह एक सिविल इंजीनियर है. नौकरी नहीं लगी तो उसने शुरू में दो-चार जगह अपना परिचय अमित शाह के भांजे के रूप में देना शुरू कर दिया. इस तरह से उसका काम बनता गया. गृह मंत्री के नाम पर वह अधिकारियों और भाजपा नेताओं को ही ठगता था.एसपी सिटी ने बताया कि आरोपी को जेल भेज दिया गया है. उसके बारे में और जानकारी निकाली जा रही है. इसके लिए अहमदाबाद पुलिस से भी संपर्क कर लिया गया है.

आपको बता दें कि आरोपी युवक ने आगरा दक्षिण के विधायक योगेंद्र उपाध्याय को ठगने का प्रयास किया था. लेकिन जब युवक ने एक दुकान से 40 हज़ार रुपये की शॉपिंग की और बिल देने के लिए विधायक के बेटे की तरफ देखा. जिसके बाद बेटे ने फोन कर उन्हें मामले के बारे में बताया. विधायक ने अपने छोटे बेटे से गूगल पर नाम सर्च करने को कहा तो पूरा मामला सामने आया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें