आगरा: व्हॉट्सएप पर होता था सेना में भर्ती का सौदा, केस में 3 सैन्यकर्मी भी शामिल

Smart News Team, Last updated: 07/03/2021 01:54 PM IST
  • आगरा के इंजीनियरिंग कॉलेज में हो रही सेना भर्ती के दौरान अवैध भर्ती कराने के लिए दो दलाल पकड़े गए थे. उन्होंने अवैध भर्तियों को लेकर तीन सैन्यकर्मियों के नाम का भी खुलासा किया है.
सांकेतिक तस्वीर

आगरा. आगरा के सिकंदरा में स्थित आनंद इंजीनियरिंग कॉलेज में हो रही सेना भर्ती के दौरान बीते शुक्रवार को दो दलाल पकड़े गए थे. उन दलालों ने बताया कि वह सैन्यकर्मियों की मदद से सेना में भर्ती कराने का ठेका लेते थे और व्हॉट्सएप्प पर ही उसका सौदा करते थे. इसके अलावा भी आरोपियों ने पूछताछ के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. उन्होंने बताया कि वह व्हॉट्सएप्प ही सैन्यकर्मियों से बातें करते थे और यहीं वह कागजातों को भी भेजते थे.

दलालों ने बताया कि सैन्यकर्मियों के ओके लिखने के बाद ही अभ्यर्थियों से रकम ली जाती थी. बता दें कि थाना सिकंदरा पुलिस ने बीते शुक्रवार को फर्जी दस्तावेजों की मदद से सेना में भर्ती के लिए आए बुलंदशहर के अजीत कुमार को गिरफ्तार किया था. पुलिस के मुताबिक वह मेडिकल प्रक्रिया में दस्तावेजों के सत्यापन के दौरान ही पकड़ा गया था. अजीत ने पुलिस से पूछताछ में बताया कि दो दलानों ने छह लाख रुपए में सेना में भर्ती कराने का ठेका लिया था.

आगरा: जमानत पर रिहा आरोपी हो गया था गायब, 11 साल बाद पुलिस ने किया गिरफ्तार

अजीत की निशानदेही के आधार पर ही दलाल डौकी के नगरिया के रहने वाले रंजीत कुमार और मधुरा के रहने वाले शशि कुरैशी को गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने बताया कि तीनों ही आरोपियों को जेल भेज दिया गया है. मामले के बारे में थाना सिकंदरा के प्रभारी निरीक्षक अरविंद कुमार ने बताया कि दलालों से पूछताछ में सैन्यकर्मी के भी नाम सामने आए हैं जो कि सेना में अलग-अलग जगहों पर तैनात हैं. सैन्यकर्मियों के नाम योगेंद्र कुमार, सौरव और विकास हैं जो कि लगातार दलालों के संपर्क में रहते थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें