आगरा: इन दिनों पर्यटकों के लिए ताजमहल में होगी Free एंट्री, करें ताज का दीदार

Ankul Kaushik, Last updated: Fri, 25th Feb 2022, 11:41 AM IST
  • आगरा में ताजमहल का दीदार करने के लिए पर्यटक को अब कोई शुल्क नहीं देना होगा. हालांकि यह एंट्री शुल्क केवल कुछ दिनों के लिए ही है. 27 व 28 फरवरी को दोपहर दो बजे से और एक मार्च को पूरे दिन स्मारक में टिकट लागू नहीं होगा.
ताजमहल (फाइल फोटो)

आगरा. ताजमहल का दीदार करने वालों पर्यटकों के लिए एक अहम जानकारी है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने तीन दिनों के लिए प्रवेश निःशुल्क करने का निर्णय लिया है. एएसआई के इस फैसले के अनुसार पर्यटकों को ताजमहल में 27 फरवरी, 28 फरवरी और एक मार्च को नि:शुल्क प्रवेश मिलेगा. क्योंकि इन दिनों में शाहजहां का तीन दिवसीय उर्स ताजमहल में मनाया जाएगा, जिससे पर्यटकों को यह छूट मिल रही है. यह पहली बार पर्यटकों को ताजमहल में फ्री एंट्री मिल रही है. क्योंकि हर साल यह छूट उर्स के मौके पर दी जाती है और इसके अलावा विश्व पर्यटन दिवस पर ताजमहल में प्रवेश भी निःशुल्क है.

माना जा रहा है कि इस साल शहंशाह शाहजहां के उर्स में 1381 मीटर लंबी चादर चढ़ाई जाएगी. उर्स का कार्यक्रम 27 फरवरी से शुरू होगा और एक मार्च को चादरपोशी होगी. पिछले साल हुए उर्स के कार्यक्रम में 1331 मीटर लंबी चादर चढ़ाई गई थी. ताजमहल में होने वाले उर्स के कार्यक्रम में चादरपोशी के दौरान नजारा भी देखने लायक होता है. इसी वजह से इस दौरान काफी पर्यटक भी ताजमहल में दीदार करने आते हैं. बता दें कि शहंशाह शाहजहां व मुमताज की तहखाने में स्थित कब्रों को केवल उर्स के दौरान ही खोला जाता है. उर्स के पहले व दूसरे दिन दोपहर दो बजे से और तीसरे दिन सुबह से सूर्यास्त तक पर्यटक इन्हें देख सकते हैं.

Taj mahotsav 2022: 20 मार्च से शुरू होगा ताज महोत्सव, जानें समय, थीम और एंट्री फीस

वहीं एएसआई के अधीक्षण पुरातत्वविद् डॉ राजकुमार पटेल ने इस कार्यक्रम को लेकर कहा कि शाहजहां के उर्स के पहले दिन 27 फरवरी को दोपहर 2 बजे से सूर्यास्त तक सभी पर्यटकों को नि:शुल्क प्रवेश मिलेगा. इसके साथ ही 28 फरवरी को भी इसी कार्यक्रम का पालन किया जाएगा. फिर अगले दिन 1 मार्च को उर्स के अंतिम दिन सूर्योदय से सूर्यास्त तक नि:शुल्क प्रवेश दिया जाएगा. इसके साथ ही पटेल ने कहा कि ताजमहल में फ्री एंट्री के समय सभी पर्यटकों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें