राजा मानसिंह के हत्यारे कानसिंह भाटी की मौत, जयपुर के अस्पताल में चल रहा था इलाज

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Sep 2020, 8:29 PM IST
राजा मानसिंह की हत्या के आरोप में आजीवन सजा काट रहे कान सिंह भाटी को 8 सितंबर को पुलिस अभिरक्षा में पेट में तकलीफ होने की शिकायत से आगरा और बाद में जयपुर रेफर किया गया जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.
भरतपुर के राजा मानसिंह की हत्यारे कानसिंह भाटी की मौत हो गई.

आगरा. भरतपुर के राजा मानसिंह की हत्यारे कानसिंह भाटी की मौत हो चुकी है. 8 सितंबर को जेल में उनकी हालत बिगड़ी थी जिसके चलते इलाज के लिए उन्हें पुलिस अभिरक्षा में जयपुर के एसएमएस अस्पताल ले गए थे. इलाज के दौरान जयपुर के एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई. कानसिंह भाटी ने जयपुर के अस्पताल में शुक्रवार की रात 9 बजे अंतिम सांस ली. कानसिंह भाटी राजा मानसिंह की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे.

कानसिंह भाटी ने 8 सितंबर को जेल अधिकारियों से पेट में तकलीफ होने की शिकायत की थी.जिसे देखते हुए उन्हें जेल अस्पताल से जिला चिकित्सालय भेजा गया. इसके बाद से उन्हें तत्काल आगरा रेफर कर दिया गया था. जब यहां भी उनकी तबीयत में नहीं सुधरी नहीं दिखा तो परिजन ने पुलिस अभिरक्षा में उन्हें जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल ले गए. इसके बाद इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. अब जयपुर में ही उनका पोस्टमार्टम किया जाएगा जिसके बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा.

आगरा पुलिस ने बताया इस कारण से पड़ोसी वाहिद ने की थी 9 वर्षीय मासूम की हत्या

राजा मानसिंह की हत्या के समय कानसिंह भाटी राजस्थान पुलिस के तत्कालीन सीओ थे. राजा मानसिंह हत्याकांड के मुख्य अभियुक्त राजस्थान पुलिस के तत्कालीन सीओ थे. 21 फरवरी 1985 में भरतपुर के राजा मानसिंह की हत्या राजस्थान पुलिस ने कर दी थी. जिसकी सुनवाई सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर जनपद न्यायालय ने की थी. 22 जुलाई 2020 की जनपद न्यायाधीश ने राजस्थान पुलिस के तत्कालीन सीओ कानसिंह भाटी सहित 11 पुलिसकर्मियों को राजा मानसिंह की हत्या का दोषी माना और आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी. तब से 82 वर्षीय कानसिंह भाटी जिला जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें