आगरा: सरकारी राशन के कालाबाजारी का पर्दाफाश, गेहूं और चावल के 148 कट्टे बरामद

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 11:19 PM IST
  • आगरा में सरकारी राशन की घोटले बाजी का मामला सामने आया. मौके पर दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया. बरामद राशन को पूर्ति विभाग ने अपने कब्जे में ले लिया है.
सरकारी राशन की कालाबाजारी के पकड़े जाने के बाद गोदाम में बरामद राशन के साथ पुलिसकर्मी

आगरा: ताजनगरी के फाउंड्री नगर क्षेत्र में सोमवार को सरकारी राशन की कालाबाजारी के मामले का पर्दाफाश हुआ. यहां गोदाम में रखे राशन के गेहूं व चावल के 148 कट्टे ट्रक में भरकर कहीं भेजे जा रहे थे. जिसके बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने माल सहित ट्रक जब्त कर लिया. बाद में पूर्ति विभाग ने राशन अपने कब्जे में ले लिया। विभाग गोदाम के मालिक दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएगा।

जानकारी के मुताबिक सोमवार सुबह करीब 11 बजे इलाके की पार्षद पुष्पा कुशवाह के पति महेश कुशवाह भाटिया पेट्रोल पंप की तरफ से आ रहे थे. उन्होंने रास्ते में एक गोदाम से सरकारी राशन एक ट्रक में लदते हुई देखा. जिसके बाद उन्होंने पूछताछ की तो वहां मौजूद कर्मचारियों ने उन्हें धमका दिया. जिस पर पार्षद पति ने पुलिस को सूचना दे दी. मामले की जानकारी मिलने पर विधायक राम प्रताप चौहान भी पहुंच गए. जिसके बाद पुलिस ने ट्रक में गेहूं और चावल के कट्टे चढ़ा रहे दो लोगों को हिरासत में लिया.

21 महीने बाद भी नहीं मिला आगरा की बेटी संजलि को इंसाफ, जमानत पर छूट गया आरोपी

जिसके बाद मौके पर पहुंची पूर्ति विभाग की टीम को स्थानीय लोगों ने बताया कि करीब छह महीनों से इसी तरह से राशन इधर से उधर किया जाता है. जांच में आपूर्ति विभाग को मौके पर कुल 148 कट्टों में भरा सरकारी गेहूं व चावल मिला. उनके मुताबिक इनमें से 30 कट्टों में गेहूं व बाकी में चावल था. पूर्ति विभाग ने सारा माल जब्त कर लिया. इस मामले में जिला पूर्ति अधिकारी उमेश चन्द्र मिश्र ने बताया कि मौके पर राजेश गुप्ता व मोहित नामक दो लोगों के नाम सामने आए हैं. 

वीकेंड के दौरान सभी पर्यटन स्थल पर रही भीड़, ताजमहल के दीदार को उमड़े पर्यटक

गौरतलब है कि लॉकडाउन में सरकार अप्रैल से राशन कार्ड धारकों को एक बार मुफ्त चावल, गेहूं, चना दे रही है. जिस कारण पूर्ति विभाग के सूत्रों का कहना है कि गोदाम में मिला खाद्यान्न सरकारी है. यह आशंका जताई जा रही है कि आरोपी मुफ्त में मिले राशन को कार्ड धारकों से सस्ती कीमत पर खरीद लेते हैं और ये दलाल खाद्यान्न को गली-मोहल्ले की खुली दुकानों पर ऊंची कीमतों पर बेचकर काली कमाई करते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें