सर्राफा कारोबारी ने की खुदकुशी, फंदे से लटका मिला शव

Smart News Team, Last updated: Thu, 25th Feb 2021, 2:05 PM IST
  • आगरा में सर्राफा कारोबारी ने बीते बुधवार को खुदकुशी कर ली. उनका पूरा परिवार दर्शन के लिए कैला देवी के मंदिर गया था, जिससे वह घर पर अकेले थे. जांच में अभी तक सुसाइड का कारण सामने नहीं आया है.
सर्राफा कारोबारी ने की खुदकुशी, फंदे से लटका मिला शव (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा में सर्राफा कारोबारी द्वारा बीते बुधवार को खुदकुशी करने का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि सर्राफा कारोबारी घर पर अकेले थे और उनका परिवार दर्शन के लिए कैला देवी के मंदिर दर्शन के लिए गए हुए थे. वहीं, जब बुधवार को जब उनका चचेरा भाई घर पहुंचा तो उन्हें फंदे से लटका हुआ पाया गया. उनके चचेरे भाई ने तुरंत ही अन्य लोगों के साथ मिलकर घर का दरवाजा तोड़ा और उन्हें तुरंत ही फंदे से नीचे उतारा. लेकिन तब तक सर्राफा कारोबारी की सांसें थम चुकी थीं.

सर्राफा कारोबारी का नाम पंकज वर्मा बताया जा रहा है, जिसकी उम्र करीब 35 वर्ष है. वह शाहगंज में पृथ्वीराज मंदिर के पास स्थित शिवपुरम कॉलोनी में रहता था. कारोबारी के परिवार में उसकी पत्नी, पांच साल की बेटी और एक मां भी है. पत्नी सहित परिवार के सभी लोग कैला देवी मंदिर दर्शन के लिए गए हुए थे. ऐसे में पंकज घर पर अकेला था. वह बुधवार की सुबह दस बजे तक घर से बाहर नहीं निकले. उनका चचेरा भाई मोनू दोपहर 11 बजे घर पर गया, वह काफी देर तक आवाज देता रहा, लेकिन दरवाजा नहीं खुला. ऐसे में उसने खिड़की से झांक कर देखा तो पंकज वर्मा को पंखे से साफी का फंदा बनाकर लटकते हुए पाया.

MG रोड पर नहीं चलेंगे ई-रिक्शा, ठेलों को भी हटाने का आदेश

मोनू ने तुरंत ही लोगों की मदद से दरवाजा तोड़कर बाहर पंकज वर्मा को फंदे से नीचे उतारा, लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुके थे. मोनू के जानकारी देने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. उधर, पंकज वर्मा की खुदकुशी के बारे में कैला देवी दर्शन को गए परिवार के अन्य लोगों को पता चला, जिससे वहां कोहराम मच गया. बताया जा रहा है कि पुलिस और स्वजन ने पंकज के कमरे की तलाशी भी ली, लेकिन उन्हें कोई भी सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ. वहीं, इंस्पेक्टर शाहगंज सत्येंद्र सिंह राघव ने कहा कि परिवार भी उनकी खुदकुशी का कारण नहीं बता सके, ऐसे में मामले की छानबीन जारी है.

मां-बाप के लिए श्रवण कुमार बना युवक, बिक्की पर बैठाकर कराई 907 कि.मी की यात्रा

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें