कैबिनेट मंत्री के प्रस्तावक की गोली मारकर हत्या, कार्यकर्ताओं ने शव रोड पर रखकर लगाया जाम

Swati Gautam, Last updated: Sat, 29th Jan 2022, 3:55 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के मथुरा के प्रसिद्ध शनि देव मंदिर कोकिला वन में शनुवाद को पैरागाँव के प्रधान और कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के प्रस्तावक रामवीर की गोली मारकर हत्या कर दी गई. आक्रोशित भाजपा कार्यकर्ताओं ने शव को रोड पर शव रखकर जाम लगाया और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की.
कैबिनेट मंत्री के प्रस्तावक की गोली मारकर हत्या (file photo)

आगरा. शनिवार को मथुरा के प्रसिद्ध शनि देव मंदिर कोकिला वन में पैरागांव के प्रधान और कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के प्रस्तावक रामवीर की गोली मारकर हत्या कर दी गई. यूपी विधानसभा चुनावों के बीच हुई इस वारदात के बाद पूरे इलाके में सनसनी मच गई. जैसी ही यह खबर कार्यकर्ताओं तक पहुंची तो उन्होंने प्रधान के शव को रोड पर शव रखकर जाम लगा दिया और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे. बताया जा रहा है कि शनिवार सुबह प्रधान रामवीर शनिधाम कोकिलावन में परिक्रमा लगा रहे थे उसी दौरान कुछ लोगों ने आकर उनको गोली मार दी. इस घटना में रामवीर की मौके पर ही मौत हो गई.

जानकारी अनुसार पैरागांव के प्रधान और कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के प्रस्तावक रामवीर शनिवार होने के कारण कोकिला वन में भगवान शनि देव के दर्शन करने गए थे. दर्शन के बाद वे कोकिला वन की परिक्रमा कर रहे थे. मंदिर से करीब 1 किलोमीटर दूर वह पहुंचे थे कि तभी 3 अज्ञात बदमाशों ने उन पर फायरिंग कर दी, जिससे रामवीर की मौके पर ही मौत हो गई. इस घटना के बाद उनके परिजनों और कार्यकर्ताओं में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है.

जब गुंडे सरेंडर करते हैं अखिलेश के पेट में दर्द होता है, राधे-राधे बोलकर BJP को जिताएं: अमित शाह

कैबिनेट मंत्री के प्रस्तावक थे मृतक प्रधान

प्रधान रामवीर कैबिनेट मंत्री और छाता क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी चौधरी लक्ष्मी नारायण के इस चुनाव में प्रस्तावक थे. जानकारी अनुसार रामवीर ने गुरुवार को गांव में मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण की एक सभा भी कराई थी. लोगों द्वारा कयास लगाए जा रहे हैं कि रामवीर की हत्या कहीं चुनावी रंजिश में तो नहीं कि गई. दिखा वारदात की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और रामवीर के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें